MP Cabinet Expansion : रीवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। प्रदेश मंत्रिमंडल का गठन होने के बाद रीवा के लोगों में आक्रोश है और जिले की 8 विधानसभा सीटों पर काबिज भाजपा के 8 विधायकों में से एक भी विधायक को मंत्री नहीं बनाए जाने से जनता अपने आप को ठगा महसूस कर रही है। रीवा के जनादेश की उपेक्षा को लेकर रीवा में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया है।

व्यापारी संघ ने विरोध जताया है तो पूर्व विधायक ने भी जनादेश की उपेक्षा का आरोप लगाया है। शहर के व्यापारी संघ के पदाधिकारी कोठी कंपाउंड स्थित साईं मंदिर पहुंचे और उन्होंने भाजपा के लोगों को सद्बुद्धि देने के लिए प्रार्थना की। वहीं पूर्व मंत्री राजेंद्र शुक्ला तथा रीवा के जनप्रतिनिधियों को मंत्रिमंडल में शामिल न किए जाने पर इसे काला दिवस के रूप में मनाया।

व्यापारियों ने काली पट्टी बांधकर तथा काला मास्क लगाकर विरोध प्रदर्शन किया। व्यापारियों का कहना था कि रीवा का जनमानस भाजपा के पक्ष में रहा और पूर्व मंत्री शुक्ला सहित अन्य विधायकों को अपना मत देकर प्रदेश की सत्ता में भागीदारी करने के लिए भेजा था, लेकिन भाजपा के लोगों ने उनकी उम्मीदों के साथ कुठाराघात किया है। सरकार को इस पर पुनर्विचार करना चाहिए।

व्यापारी संघ ने कहा कि वे संगठन का समर्थन नहीं करेंगे। भाजपा के पूर्व विधायक लक्ष्मण तिवारी ने प्रेस वार्ता कर कहा कि रीवा के जनादेश की उपेक्षा की गई है। यहां की जनता अपने आप को अपमानित महसूस कर रही है।

विंध्य प्रदेश की उठी मांग

रीवा, सीधी, सिंगरौली के लोगों को मंत्रिमंडल में स्थान नहीं दिया गया। इससे अब विंध्य क्षेत्र के गठन को लेकर मांग भी उठने लगी है। पूर्व विधायक लक्ष्मण तिवारी ने कहा कि विंध्य की राजधानी रीवा रही है और विंध्य के विकास के लिए विंध्य प्रदेश के गठन की महती आवश्यकता है।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020