रीवा नईदुनिया प्रतिनिधि। रीवा जिले के नईगढ़ी में हुए सामूहिक दुष्कर्म के छठवें आरोपित को भी पुलिस ने उत्तर प्रदेश के कोरांव से गिरफ्तार किया है। आरोपित अपने रिश्तेदार के यहां घटना के बाद छिपा हुआ था। पुलिस लोकेशन ट्रेस कर पहुंचने में कामयाब रही है। पुलिस ने घटना में शामिल पांच आरोपितों को पहले ही गिरफ्तार कर लिया था।

नईगढ़ी थाना क्षेत्र में स्थित अष्टभुजी मंदिर में अपने दोस्त के साथ दर्शन करने आए किशोरी के साथ छह लोगों ने मारपीट और दुष्कर्म किया था। इसके के बाद पुलिस तत्काल घटना के दिन ही तीन आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया था। वही दो नाबालिगों को मुंबई से ढूंढ लाई थी। जिसमें कान्हा सिंह आरोपित फरार था जिसे पुलिस ने सोमवार की रात गिरफ्तार कर लिया है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देश पर 5 आरोपितों के संपत्ति पर बुलडोजर चला दिया गया है।

मोबाइल स्टेटस को लेकर हुआ विवाद, चाकू से गोदकर छात्र की हत्या

रीवा जिले में एक युवक के हत्या का मामला सामने आया है स्टेटस को लेकर विवाद इतना बढ़ा की उसे अपनी जान से हाथ धोना पड़ गया। करीब आधा दर्जन युवकों ने मिलकर 10वी के छात्र के ऊपर चाकू से हमलाकर उसे मौत के घाट उतार दिया। पुलिस हत्या का मामला दर्ज कर आरोपितों की तलाश में जुट गई है। यह पूरी घटना रीवा जिले के बैकुंठपुर थाना क्षेत्र की है।

बता दें कि नेबूहा निवासी कक्षा 10 वीं का छात्र गोविंद विश्वकर्मा रोजाना की तरह अपने साथी छात्रों के साथ स्कूल की ओर जा रहा था। तभी दूसरे गुट के छात्रों ने उन्हें ग्राउंड के बीच रोक लिया और गोविंद से वाद विवाद करने के बाद चले गए। जिसके महज चंद मिनटों के बाद वहीं छात्र दोबारा से हाथ में डंडा व रॉड लेकर दौड़ते हुए आए और गोविंद को घेरकर मारपीट करने लगे तभी किसी ने गोविंद के सीने और पेट में चाकू घोंप दिया जिससे गोविंद जमीन पर गिरकर तड़पने लगा।

साथी छात्रों के शोर मचाने पर लहूलुहान हालत में पड़े घायल को स्थानीय लोग आनन फानन में बैकुंठपुर अस्पताल लेकर पहुंचे। जहां से डाक्टरों ने छात्र की हालत को गंभीर देख संजय गांधी अस्पताल के लिए रेफर कर दिया। जब स्वजन छात्र को लेकर रीवा पहुंचे तभी डाक्टर प्राथमिक उपचार के दौरान ही उसे मृत घोषित कर दिया। छात्र की मौत के बाद पुलिस ने शव को पीएम के बाद स्वजनों को सौंप दिया है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close