पिता के पास न एंड्राइड मोबाइल फोन, न दुकान में टीवी

नीलांबुज पांडे, रीवा। बेटा भारत और बांग्लादेश वनडे क्रिकेट सीरीज खेल रहा था। पिता खुद की सैलून दुकान में लोगों की शेविंग और केश कर्तन कर रहे थे । उनके पास एंड्राइड मोबाइल नहीं है। दुकान में टीवी नहीं है। पिता आसपास के लोगों से जाकर भारत का स्कोर और बेटे के खेल के बारे में पूछते रहे। यहां बात हो रही है रीवा के रेवांचल एक्सप्रेस के नाम से मशहूर क्रिकेटर कुलदीप सेन की। तेज गेंदबाज कुलदीप सेन ने रविवार को अंतरराष्ट्रीय वनडे क्रिकेट मैच में पदार्पण किया है।

बता दें कि रविवार को भारत और बांग्लादेश का वनडे क्रिकेट सीरीज मैच हुआ। देशभर की निगाहें भारत के इस मैच पर रही। कुलदीप के पिता रामपाल सेन की रीवा के सिरमौर चौराहा स्थित फाइन हेयर कटिंग सैलून है। रामपाल लोगों की दाढ़ी और बाल काटने में जुटे थे। जब उनसे पूछा गया कि आज कुलदीप मैच खेल रहे हैं क्या, आपको जानकारी है।

उन्होंने जवाब दिया कि मुझे पता है, मगर मैं सुबह ही दुकान आ गया था, वापस घर नहीं जा सका। दुकान में टीवी नहीं है और मेरे पास एंड्राइड मोबाइल भी नहीं है, जिससे मैच नहीं देख सका। बीसीसीआइ को धन्यवाद देते हैं, जिन्होंने कुलदीप को खेलने का मौका दिया।

विजय हजारे ट्राफी में कुलदीप ने खींचा चयनकर्ताओं का ध्यान

कुलदीप ने अपना पहला मैच बांग्लादेश के मीरपुर स्टेडियम में भारत की ओर से बांग्लादेश के खिलाफ खेला। गेंदबाजी में पांच ओवर में 37 रन देकर दो विकेट चटकाए। और बल्लेबाजी करते हुए दो रन बनाकर नाबाद रहे। हालांकि, यह मैच भारत एक विकेट से हार गया। हाल ही में आयोजित हुई विजय हजारे ट्राफी के दौरान कुलदीप ने चयनकर्ताओं का ध्यान अपनी ओर खींचा था। उन्होंने छह मैचों में 18 विकेट चटकाए थे।

कुलदीप के घर बधाई देने लगा तांता : पदार्पण मैच के दिन कुलदीप के घर में बधाइयां देने वालों का तांता लगा रहा। गांव वाले घर पहुंचकर जश्न मना रहे हैं। कोई मिठाई खिलाकर खुशी जता रहा है तो कई लोग पटाखे फोड़ रहे हैं।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close