रीवा नईदुनिया प्रतिनिधि।

कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक में कलेक्टर मनोज पुष्प ने स्वास्थ्य विभाग के कार्यों की समीक्षा की। कलेक्टर ने कहा कि विभिन्न विकासखण्डों द्वारा स्वास्थ्य सूचकांकों के दर्ज किए गए आंकड़े में बहुत अंतर है। बीएमओ तथा बीपीएम इनमें आवाश्यक सुधार कराएं। कार्य करने के साथ सही डाटा आनलाइन दर्ज करना भी बीएमओ की जिम्मेदारी है। उससे भी अधिक महत्वपूर्ण कार्य आमजनों को स्वास्थ्य सुविधाएं देना है। डाटा भरने से अधिक आवश्यक है कि किसी गर्भवती महिला को सुरक्षित प्रसव की सुविधा दी जाए। हाई रिस्क गर्भवती महिलाओं तथा सीवियर एनिमिक महिलाओं की तथ्यपरक जानकारी आनलाइन दर्ज करें। इसमें लापरवाही बरतने वालों पर कड़ी कार्यवाही की जाएगी। कलेक्टर ने सही जानकारी दर्ज न करने पर सेक्टर अधिकारी लालगांव, मझगवां, रायपुर सोनौरी, गंगेव, सगरा, पहाड़ी तथा 50 प्रतिशत से कम उपलब्धि वाले सभी सेक्टर अधिकारियों को नोटिस देने के निर्देश दिए।

कलेक्टर ने कहा कि मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी विकासखण्ड स्तर तथा सेक्टर स्तर पर बैठक लेकर कमजोर सेक्टरों के कार्यों में सुधार कराएं। गर्भवती का समय पर पंजीयन, सही समय पर चारों जांचे होना एवं संस्थागत प्रसव सुनिश्चित करना हम सबकी जिम्मेदारी है। इन कार्यों की ऑनलाइन पंजीयन से निगरानी की जा रही है। जितनी गर्भवती महिलाओं का पंजीयन होता है उनकी चारों जांच कराकर उसकी जानकारी दर्ज करना अनिवार्य है। जब तक हम सही मॉनीटरिंग नहीं करेंगे तब तक मातृ मृत्यु दर, शिशु मृत्यु दर एवं बधाों के कुपोषण पर नियंत्रण नहीं होगा। जिस गर्भवती महिला का एचबी 7 से कम है उसे हाई रिस्क में दर्ज कर आयरन सुक्रोज की डोज दें। बीएमओ स्तर पर इसकी ग्रामवार मॉनीटरिंग करें।

कलेक्टर ने कहा कि जिन सेक्टरों में गर्भवती महिलाओं की प्रथम तथा दूसरी जाँच का विवरण दर्ज है उसकी तुलना में तीसरी जाँच बहुत कम हुई है। उनके सेक्टर अधिकारीों पर कार्यवाही करें। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी आकांक्षी विकासखण्डों में एएनएम के रिक्त पदों की पूर्ति सुनिश्चित करें। कलेक्टर ने दस्तक अभियान, टीकाकरण अभियान, कम पोषित बधाों के पोषण पुनर्वास केन्द्र में प्रवेश तथा कोविड टीकाकरण के संबंध में निर्देश दिए।

बैठक में मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ एनएन मिश्रा तथा डीपीएम अर्पिता सिंह ने विभागीय योजनाओं की प्रगति की जानकारी दी। बैठक में जिला प्रबंधक ई गवर्नेंस आशीष दुबे ने किलकारी एप में हाई रिस्क गर्भवती महिलाओं के पंजीयन की प्रक्रिया का प्रशिक्षण दिया। बैठक में जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी स्वप्निल वानखेड़े, जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास श्रीमती प्रतिभा पाण्डेय, जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ बीके अग्निहोत्री, डॉ सुनील अवस्थी, सभी बीएमओ तथा सेक्टर अधिकारी उपस्थित रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close