रीवा (नईदुनिया प्रतिनिधि)। देश की सबसे बड़ी 750 मेगावाट की मध्य प्रदेश के रीवा अल्ट्रा मेगा सौर विद्युत परियोजना का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से लोकार्पण किया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि पर्यावरण तथा जीवन की सुरक्षा के लिए रीवा सौर परियोजना मजबूत नींव साबित होगी। इस परियोजना से 750 मेगावाट ग्रीन बिजली मिल रही है। सोलर प्लांट ने रीवा को सफेद बाघ की तरह नई पहचान दी है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि रीवा सौर परियोजना ने सस्ती और ग्रीन बिजली का उपहार देश को दिया है। इस परियोजना से श्योर, सिक्योर और प्योर ऊर्जा मिलेगी। इससे पर्यावरण को कोई क्षति नहीं पहुंचती है।

शुक्रवार को हुए समारोह में लखनऊ से राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, भोपाल से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान तथा दिल्ली से कई केंद्रीय मंत्री शामिल हुए।

800 लोगों को रोजगार

परियोजना के तहत 800 लोगों को रोजगार मिला है। मोदी ने कहा कि रीवा सहित मध्य प्रदेश के वासी दिल्ली में चलती हुई मेट्रो को देखकर यह भी कहेंगे कि देखो हमारे यहां बनने वाली बिजली से चल रही है।

यह दुनिया के सबसे बड़े सिंगल साइड सौर सयंत्रों में से एक है। परियोजना से उत्पादित विद्युत का 76 प्रतिशत अंश प्रदेश की पावर मैनेजमेंट कंपनी और 24 प्रतिशत दिल्ली मेट्रो को दिया जा रहा है। इस परियोजना से पहली बार ओपन एक्सेस के माध्यम से राज्य के बाहर किसी व्यावसायिक संस्थान दिल्ली मेट्रो को बिजली प्रदान की गई है। 4500 करोड़ की लागत साढ़े चार हजार करोड़ की लागत से रीवा सौर परियोजना में पूर्ण क्षमता के साथ उत्पादन शुरू हो गया है।

इसके अलावा पांच हजार मेगावाट की छह परियोजनाएं और निर्माणाधीन हैं। रीवा सौर परियोजना के लिए मध्य प्रदेश ऊर्जा विकास निगम और सोलर एनर्जी कार्पोरेशन ऑफ इंडिया की ज्वाइंट वेंचर कंपनी के रूप में रीवा अल्ट्रा मेगा सोलर लिमिटेड कंपनी का गठन किया गया। इससे उत्पादित विद्युत का न्यूनतम टैरिफ 2 रुपये 97 पैसे यूनिट की दर से दिल्ली मेट्रो और प्रदेश की पावर मैनेजमैंट कंपनी को दिया जा रहा है। परियोजना 1590 हेक्टेयर क्षेत्र में स्थापित है।

खास बातें - परियोजना का निर्माण 2015 में शुरू हुआ - नवंबर 2019 में परियोजना पूर्ण हुई - 2017 में ऑफ रिकॉर्ड शिलान्यास किया गया - 2017 में 125 मेगावाट बिजली उत्पादन हुआ। - 2018 में 310 मेगावाट - जुलाई 2018 में 180 मेगावाट (तकनीकी कारणों से कुछ दिन काम बंद रहा, फिर से शुरू होने की स्थिति में) - 2019 में 540 मेगावाट और नवंबर 2019 से 750 मेगावाट बिजली उत्पादन होने लगा।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan