सीधी नईदुनिया प्रतिनिधि। भारतीय वुशू टीम में शामिल सीधी जिले की दो बेटियों को जॉर्जिया बाटूमी में होने वाली अंतरराष्ट्रीय वुशू स्पर्धा में स्‍वर्ण जीता है। यह प्रतियोगिता दो से चार अगस्त तक होगा। स्‍वर्ण पदक मिलने की खबर मिलते ही शासन के अधिकारियों के साथ ही आमजन में खुशी का माहौल देखने को मिला। बता दें कि अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता में भारत की ओर से तीन लोगों का चयन हुआ था, जिसमें सीधी जिले की रहने वाली प्रियंका और गीतांजलि त्रिपाठी को भी चुना गया था। हालांकि यह दोनों इन दिनों भोपाल में रहती हैं।

गीतांजलि त्रिपाठी आठवीं तक की पढ़ाई सीधी में करने के बाद बाकी की शिक्षा भोपाल में प्राप्‍त की है। पिछले दो वर्षों से एसएसबी में नौकरी कर रही हैं। गीतांजलि के पिता विनोद त्रिपाठी एएसआई अमिलिया बताते हैं कि गीतांजलि आठवीं की पढ़ाई करने के दौरान वुशू सीख रही थी। इसके बाद वह लड़ाई करने के लिए भोपाल चली गई, तब से लगातार अभ्यास करती रही। जार्जिया में स्‍वर्ण पदक जीती। यह स्‍वर्ण पदक भारत देश के लिए है। प्रियंका केवट जार्जिया में गोल्ड जीत गया है। प्रियंका के पिता शिवराज केवट एक निजी अस्पताल में काम करते हैं तो वहीं मां निजी स्कूल में काम करती हैं। शुरू में दो स्‍वर्ण पदक अपने भारत के लिए जीता है।

मानवेंद्र शेर अली खान ने बताया कि प्रियंका को पिछले 12 वर्षों से वुशू का अभ्यास कराते रहे हैं। उसके अभ्यास में उसके घर वालों ने बराबर का साथ दिया, जिसका नतीजा रहा कि वह भारत देश लिए जार्जिया में स्‍वर्ण पदक भारत के नाम किया है। उन्होंने बताया कि प्रियंका केवट 48 केजी, गीतांजलि त्रिपाठी 56 केजी को लेकर चयन हुआ था।

स्‍वर्ण पदक जीतने पर मुजीबुर्रहमान, मुकेश कुमार श्रीवास्तव पुलिस अधीक्षक, अंजुलता पटले अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, हिमांशु तिवारी कार्यपालन यंत्री आरइएस, केदार परौहा थाना प्रभारी अमिलिया,पवन सिंह थाना प्रभारी, शेषमणि मिश्रा थाना प्रभारी जमोड़ी, अभिषेक सिंह सहित अन्य अधिकारी कर्मचारियों ने शुभकामनाएं दी है।

Posted By: Jitendra Richhariya

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close