रीवा नईदुनिया प्रतिनिधि।

मन में यदि कुछ करने का संकल्प हो तो मुश्किल राह भी आसान हो जाती है। रीवा के रहने वाले पार्थ पांडे दुबई में नौकरी कर रहे थे। मगर उन्हें लगता था कि मेरा खुद का व्यवसाय हो और मैं दूसरों को भी रोजगार दे सकूं। उनका दृढ़ निश्चय युवाओं के लिये प्रेरणा स्त्रोत है। पार्थ का कालेज चौराहा में कैफे है जिसमें वह केक के अलावा बेकरी, गिफ्ट, डायफ्रूट आदि का विक्रय करते हैं। गत दिनों कलेक्टर मनोज पुष्प ने कैफे पहुंचकर पार्थ का उत्साह बढ़ाया तथा उनके अनुभव पूछे।

कलेक्टर मनोज पुष्प को पार्थ ने बताया कि उद्योग विभाग से प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम के तहत दो घंटे में उनका ऋण प्रकरण बनाकर बैंक भेज दिया गया और केनरा बैंक ने दो दिन में मुझे 20 लाख रूपये का ऋण स्वीकृत कर दिया। पार्थ ने बताया कि मेरी शाप अभी तीन माह की ही हुई है और गत माह का टर्न ओवर 5 लाख था। जबकि गत से गत माह में 3.50 लाख रूपये टर्न ओवर रहा। आत्मविश्वास से भरे पार्थ ने कलेक्टर को बताया कि दुबई के कैफे में बैठकर मेरे मन में विचार आया था कि मैं थी ऐसा कैफे खोलूं और मैं अब अपने व्यवसाय में 15 लोगों को रोजगार दे रहा हूं। अब मैं अपने कैफे का खुद मालिक हूं और निकट भविष्य में इसे बढ़ाते हुए अधिक लोगों को रोजगार दे सकूंगा।

कलेक्टर मनोज पुष्प ने पार्थ के आत्मविश्वास, लगन की प्रशंसा की तथा उन्हें शुभकामनाएं दी। कलेक्टर ने कैफे में किचन का निरीक्षण किया तथा वहां बेहतरीन व व्यवस्थित एवं साफ-सफाई से बनाये जा रहे सामग्री पर संतोष प्रकट किया। उन्होंने कहा कि इस शाप को ईट टू राइट के तहत चयनित किया जाएगा। यह शाप आदर्श शाप होगी जहां साफ-सफाई व शुद्घता के सभी मानक पूरे किये जायेंगे। उन्होंने पार्थ को युवाओं का प्रेरणा स्त्रोत बताया तथा कहा कि इनसे प्रेरणा लेकर युवा आत्मनिर्भर बनेंगे और आत्मनिर्भर भारत एवं आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश के निर्माण में अपनी सहभागिता निभायेंगे। इस अवसर पर जिला उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक यूबी तिवारी ने योजना से लाभान्वित युवाओं के बारे में बताया। इस दौरान उप संचालक रोजगार अनिल दुबे भी उपस्थित रहे।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close