सागर(नवदुनिया प्रतिनिधि)। श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व के अवसर पर शुक्रवार को पूरे जगत के पालनहार भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव धूमधाम से मनाया गया। घरों व मंदिरों में रात 12 बजे भगवान श्रीकृष्ण का पूजन-अभिषेक व आरती उतारकर जन्मोत्सव मनाया गया। शहर में सुबह से लेकर देर रात तक शहर में नंद के आनंद भयो जय कन्हैया लाल के जयकारे गूंजते रहे। पिछले वर्ष की अपेक्षा इस बार कोरोना संक्रमण न होने से शहर के सभी मंदिरों में श्रीकृष्ण जन्मोत्सव एवं यादव महासभा की रैली के दौरान भक्तों का जनसैलाब उमड़ पड़ा।

शहर के मिनी वृंदावन कहे जाने वाले बड़ा बाजार क्षेत्र में रात 10 बजे से ही धार्मिक कार्यक्रम व संकीर्तन शुरू हो गया था, जबकि कुछ मंदिरों में एक दिन पूर्व से ही बधाइयां गाई जाने लगी थी। मंदिरों में आकर्षक सजावट के चलते बड़ा बाजार क्षेत्र रोशनी से जगमगा रहा था। मोतीनगर चौराहे से लेकर तीनबत्ती क्षेत्र में सैंकड़ों लोगों की भीड़ एकत्रित थी और कई लोग अपने परिवार के सदस्यों के साथ मंदिरों में भगवान के दर्शनों के लिए पहुंचे। बड़ा बाजार, भीतर बाजार, सदर एवं मकरोनिया आदि स्थानों पर श्रीकृष्ण जन्मोत्सव की धूम रही। बाजार में श्रीकृष्ण जन्मोत्सव के चलते पूजन सामग्री खरीदने भक्तों की भीड़ नजर आई। सुबह से मंदिरों में दान-पूजन करने कई श्रद्धालु पहुंचे। जन्माष्टमी के साथ ही शहर में मटकी फोड़ प्रतियोगिता का आयोजन भी शुरू होगा और कृष्णगंज वार्ड की मटकी फोड़ प्रतियोगिता लोगों के लिए आकर्षण का केंद्र रहती है।

शाम होते ही घरों में कथा-पूजन के बाद हुई आरती

श्रीकृष्ण जन्मोत्सव के अवसर पर घरों में श्रद्धालुओं ने अपने परिवार के सदस्यों के साथ मिलकर घर पर ही जन्माष्टमी की खुशियां मनाई। दिनभर व्रत रखने के बाद भक्तों ने शाम होते ही भगवान का पूजन शुरू कर दिया था। कई लोगों ने अपने घरों में बच्चों को राधा-कृष्ण के रूप में सजाया और उनके साथ फोटो लेकर उसे इंटरनेट मीडिया पर शेयर किया। रात 12 बजे भक्तों ने भगवान का जन्मोत्सव मनाते हुए पूजन-अभिषेक कर उन्हें विभिन्ना प्रकार के व्यंजनों का भोग लगाया। कई भक्तों ने घरों में शंख-झालर बजाकर भगवान श्रीकृष्ण का जन्मोत्सव मनाया। पूजन के बाद भक्तों को माखन-मिश्री का प्रसाद बांटा गया।

ठाकुर देवालय मंदिर में 51 लीटर दूध से हुआ अभिषेक

सदर बाजार स्थित श्री ठाकुर देवालय मंदिर में भगवान श्रीकृष्ण का 51 लीटर दूध से अभिषेक किया गया। इस दौरान मंदिर आने वाले श्रद्धालुओं ने उन्हें दूध अर्पित कर उनका अभिषेक किया। शहर के कई मंदिरों में भगवान श्रीकृष्ण को 56 भोग अर्पित किए गए। बड़ा बाजार स्थित बिहारी जी मंदिर सहित एक दर्जन से ज्यादा मंदिरों में श्रीकृष्ण जन्मोत्सव मनाया गया। मंदिरों में भगवान को विभिन्ना प्रकार के पकवानों का भोग लगाया गया। भक्तों ने भजन-संकीर्तन करने के बाद रात में आतिशबाजी कर खुशियां मनाई। श्री कृष्ण जन्माष्टमी के उपलक्ष्‌य में गोवर्धन रिमझिरिया मंदिर प्रांगण में दिनभर भक्तों की भीड़ रही।

यादव महासभा ने निकाली वाहन रैली, गूंजें श्रीकृष्ण के जयकारे

श्रीकृष्ण जन्माष्टमी पर्व के अवसर पर यादव महासभा द्वारा रिमझिरिया स्थित गोवर्धन मंदिर परिसर में एकत्रित होकर शहर के मुख्य मार्गों से वाहन रैली निकाली। इस दौरान शहर के अलग-अलग स्थानों से यादव समाज के लोग छोटी-छोटी रैली के रूप में यहां पहुंचे और फिर सामुहिक रूप से वाहन रैली निकाली। रैली में समाज के युवा अपने-अपने वाहनों पर पीले रंग के झंडे और साफा बांधकर चल रहे थे। रैली जिस मार्ग से गुजरी पूरा क्षेत्र भगवान श्रीकृष्ण के जयकारों से गूंज उठी। कई श्रद्धालु भजनों पर नांचते हुए चल रहे थे। रैली का कई जगह पुष्प वर्षा एवं प्रसादी वितरित करके स्वागत किया गया।

रुद्राक्षधाम मंदिर बामोरा में धूमधाम से मनाया गया जन्माष्टमी महोत्सव

ग्राम बामोरा स्थित रूद्राक्षधाम मंदिर परिसर में मंदिर परिसर को फूलों से सजाया गया व रंगबिरंगी विद्युत साज सज्जा की गई। कार्यक्रम में प्रातः की आरती में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह की धर्मपत्नी सरोज सिंह ने की। रूद्राक्षधाम मंदिर में विराजमान राधा-कृष्ण भगवान की अद्भुत प्रतिमा के दर्शनों के लिए सुबह से शाम तक भक्तों का तांता लगा रहा। मंदिर परिसर में राधे राधे मंडल द्वारा मनमोहक भजनों की प्रस्तुति दी गई। मंदिर में भगवान के दर्शन करने निशक्त, वृद्धजनों के लिए स्वचलित सीढ़ी (एस्केलेटर) की व्यवस्था भी की गई है। भक्तों ने भगवान श्री राधाकृष्ण जी के दर्शन कर आशीर्वाद लिया और प्रसादी ग्रहण की। मंदिर में आयोजित जन्माष्टमी महोत्सव पर हरे माधव संस्था के सेवादारों ने चरण पादुका रखने की व्यवस्था संभाली, मंदिर परिसर में की गई विभिन्ना व्यवस्थाओं में नरेन्द्र सिंह ठाकुर, राजेन्द्र शर्मा, प्रवीण शर्मा, गजेन्द्र सिंह राजपूत, राजेश ठाकुर, बंटी श्रीवास्तव, राजकिशोर श्रीवास्तव, अशोक जैन, सुखदेव सिंह, बिजेन्द्र ठाकुर, रजनीश जैन, हरगोविंद विश्वकर्मा, डीएस राठी, डीएल साहू, राजेश विश्वकर्मा, अनिल पाराशर, एचजी सोनी, हेमराज राठौर, प्रदीप रैकवार, अमित साहू, भरत केशरवानी, चिंटू ठाकुर, कमल मिश्रा, भल्लूराम मौर्य, मनीष दुबे, सुनील सेन, हरगोविंद आठिया, दिग्विजय सिंह एवं ब्रजेश प्रजापति का महत्वपूर्ण सहयोग रहा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close