बीना। नवदुनिया न्यूज

शासकीय गर्ल्स कॉलेज की ओर से बरदौरा गांव में लगाए गए एनएसएस शिविर के दूसरे दिन शासकीय गर्ल्स कॉलेज की छात्राओं ने घर-घर जाकर ग्रामीण शिक्षा, स्वास्थ्य और स्वच्छता का संदेश दिया। इसके अलावा बौद्धिक चर्चा में राजीव गांधी का सपना गांव-गांव तक तकनीकी पहुंच विषय पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें शिविरि में शामिल हुए छात्राओं ने अपने विचार रखे। दूसरे दिन के शिविर का शुभारंभ प्रार्थना एवं शपथ के साथ हुआ।

शिविर प्रभारी डॉ. उमा नवानिया ने छात्राओं को राष्ट्रीय सेवा योजना नियम एवं उद्देश्य को पूरा करने की शपथ दिलाते हुए सृजनात्मक, रचनात्मकता के साथ सामाजिक कार्य करने की बात कही। इसके अलावा शिक्षित और अशिक्षित के बीच की दूरी मिटाने, कमजोर वर्ग की सेवा करेंगे एवं सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखेंगे पर चर्चा की। इसके बाद अंजनी सोनी ने पीटी कराकर शारीरिक व्यायाम कराया। दूसरे सत्र में सभी छात्राओं ने साक्षात्कार अनुसूची के अनुसार गांव में घर-घर जाकर ग्रामीणों से चर्चा की। इस दौरान ग्रामीणों को शिक्षा, स्वास्थ्य, स्वच्छता, नशा मुक्ति जीवन जीते हुए शौचालय निर्माण कराकर उपयोग उपयोग करने के लिए प्रेरित किया। इसके अलावा सिंगल यू पॉलीथिन का उपयोग बंद कर गांव को पॉलीथिन मुक्त ग्राम के जागरूक किया। इस अवसर पर महेंद्र कुशवाहा, कौशल्या, डॉ. निशा जैन, आरती राजपूत, विनोद, अशोक, रंजना उपस्थित थीं।

बौद्धिक चर्चा का आयोजन

शिविर के दौरान बौद्धिक चर्चा के अंतर्गत राजीव गांधी का सपना ग्रामीण क्षेत्रों तक तकनीकी पहुंचे विषय पर संगोष्ठी का आयोजन किया गया। इसमें विशेष वक्ता के रूप में डॉ. निशा जैन ने अपने विचार रखते हुए कहा कि आज हम जिस आधुनिक भारत में सांस ले रहे हैं और जो तकनीकी संबंधी परिवर्तन दिख रहे हैं वह राजीव गांधी की देन है। इसके अलावा रोशनी, सचि, शालिनी, सविता, कविता, दीप्ति, निकिता, अंजलि, मिथलेश, याशिका ने अपने विचार व्यक्त किए।

0412 एसजीआर 147 बीना। छात्राओं ने घर-घर जाकर महिलाओं को किया जागरुक।

-----

सुस्त गति से हो रहा आगासौद रोड का चौड़ीकरण, धूल और मिट्टी से परेशानी

बीना। नवदुनिया न्यूज

मुख्यमंत्री अधोसंरचना योजना के द्वितीय चरण में चल रहा आगासौद रोड के चौड़ीकरण का काम सुस्त गति से चल रहा है। डेढ़ साल से ज्यादा समय में अब तक सड़क के दोनों ओर नालियां नहीं बन सकी हैं। नालियों की खुदाई के लिए निकली मिट्टी से पूरी रोड पर धूल और मिट्टी हो रही है जिससे लोग परेशान हैं। नगरपालिका मुख्यमंत्री अधोसंरचना योजना के तहत साढ़े तीन करोड़ की लागत से आंबेडकर तिराहे से लेकर आगासौद रोड मोतीचूर नदी की पुलिया तक चौड़ीकरण का काम करा रही है। इस कार्य के साथ बिजली के खंभों की शिफ्टिंग, नाली निर्माण, डिवाइडर व फुटपाथ का निर्माण भी शामिल है। विधानसभा चुनाव के पहले इस कार्य की शुरूआत हुई थी। तब वक्फ कमेटी की जमीन पर सीसी रोड का काम शुरू किया गया। यह काम अभी 10 प्रतिशत भी पूरा नहीं हो सका था कि नगरपालिका नाली निर्माण के काम में जुट गई। एक तरफ आधी नाली बनी और दूसरी तरफ भी खुदाई कर दी गई। नाली के लिए खुदाई के दौरान जो मिट्टी निकली वह अब भी सड़क पर पड़ी है। मिट्टी के कारण धूल हो रही है, इससे इस रोड के बाशिंदों को श्वांस लेने में परेशानी होने लगी है। नाली का निर्माण भी इतनी धीमी गति से हो रहा है कि अगले एक साल में काम पूरा होने की संभावनाएं भी नहीं लगती।

45 लाख से ज्यादा का भुगतान

सागर एक कंपनी ने सड़क चौड़ीकरण का काम लिया है जिसे अब तक हुए कार्य के एवज में 40 से 45 लाख का भुगतान नगरपालिका कर चुकी है। बिजली खंभों की शिफ्टिंग का काम 44 लाख के आसपास का है। जिस कंपनी ने यह काम लिया है वह लगातार नगरपालिका को शिफ्टिंग कराने के लिए नोटिस दे रही है, लेकिन नाली, चौड़ीकरण के काम में हो रही लेटलतीफी के कारण नगरपालिका जवाब नहीं दे पा रही है। चौड़ीकरण, नाली निर्माण, डिवाइडर तथा फुटपाथ का काम 2 करोड़ 93 लाख का है।

रोड का सुपरविजन नहीं हो रहा

अभी तक यह कार्य सब इंजीनियर शिवराम साहू देखा करते थे। तबादले के बाद सब इंजीनियर आकांक्षा मिश्रा को जिम्मेदारी दी गई। आकांक्षा के पास पहले से 12 वार्डों का काम था, उसके बाद साहू के चार्ज वाली सारी जिम्मेदारियां दे दी गईं। इस कारण वह भी इस ओर ध्यान नहीं दे पाईं। हालांकि अब नए इंजीनियर की ज्वाइनिंग हुई है।

Posted By: Nai Dunia News Network