सागर(नवदुनिया प्रतिनिधि)। डॉ. हरीसिंह गौर विश्वविद्यालय के सहयोग से प्रारंभिक शिक्षा विभाग, माता सुंदरी कॉलेज फॉर वुमेन और आईक्यूएसीए माता सुंदरी कॉलेज फॉर वुमेन दिल्ली विश्वविद्यालय द्वारा सामाजिक विज्ञान अधिगम केंद्र से आयोजित किया गया। शिक्षक एवं अध्यापक शिक्षा, प्रक्रियाएं सरोकार एवं सम्भावना पर एक अंतःविषयी ऑनलाइन शिक्षक विकास कार्यक्रम पर कई विशेषज्ञों ने अपने विचार रखे।

यह कार्यक्रम पंडित मदन मोहन मालवीय नेशनल मिशन ऑन टीचर्स एंड टीचिंग, शिक्षा मंत्रालय के तत्वावधान में 18 से 23 अक्टूबर तक आयोजित होगा। कार्यक्रम के उद्घाटन सत्र में प्रिंसिपल माता सुंदरी कॉलेज फॉर वीमेन प्रोफ़ेसर हरप्रीत कौर ने बताया कि यह कार्यक्रम अध्यापक शिक्षा के विभिन्ना पहलुओं पर उस दृष्टिकोण को विकसित में सहायक होगा, जिसे नई शिक्षा नीति में प्रस्तुत करने का प्रयत्न किया गया है।

शिक्षक ही समाज को आत्मनिर्भर बना सकता है। इस कार्यक्रम की समन्वयक डॉ. रवनीत कौर और डॉ. अफरीन खान ने कार्यक्रम से जुड़े मुख्य क्षेत्रों और अन्य महत्वपूर्ण विवरणों के बारे में जानकारियां सांझा की। राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद् के पूर्व अध्यक्ष प्रो. हम्मद अख्तर सिद्दीकी ने शिक्षक, अध्यापक शिक्षा और शिक्षण से संबंधित विभिन्ना परिवर्तनों पर अपनी बात रखी और उन विचारों को नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति से जोड़ते हुए समझाने का प्रयत्न किया। उन्होंने देश में अध्यापक शिक्षा की गुणवत्ता, शिक्षक की कार्य परिस्थितियों शिक्षक विकास और शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार के लिए नई शिक्षा नीति के प्रावधानों के निहितार्थ के बारे में बताया।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020