बीना/सागर, नवदुनिया प्रतिनिधि। छोटी बजरिया पोस्ट आफिस में पदस्थ उप डाकपाल ने एक-दो के साथ नहीं, बल्कि 21 उपभोक्ताओं के साथ धोखाधड़ी की है। जीआरपी द्वारा पूछताछ में आरोपित उप डाकपाल विशाल अहिरवार ने खुद यह बात स्वीकार की है। एक-एक पैसा बचाकर पोस्ट आफिस में एफडी कराने वाले इन उपभोक्ताओं के साथ धोखधड़ी कर करीब एक करोड़ 18 लाख रुपये उसने आइपीएल मैचों में सट्टेबाजी में लगा दिए।

आरोपित उप डाकपाल ने पोस्ट आफिस में रहते हुए 21 उपभोक्ताओं के साथ 1.18 करोड़ की धोखाधड़ी की, इसका खुलासा तब हुआ जब पोस्ट आफिस में एफडी कराने वाले अंजल परिहार, वासुदेव गोस्वामी, वर्षा सोलंकी, प्रताप रजक, आशा अहिरवार, चंदा अहिरवार, परमानंद साहू और अंकित ताम्रकार एफडी परिपक्व होने पर रुपये निकालने के लिए डाक घर पहुंचे। पोस्ट आफिस में एफडी और खाता नंबर देने पर पता चला कि यह खाता नंबर फर्जी है और उनके नाम किसी तरह की एफडी नहीं है। उपभोक्ता रुपये निकालने के लिए कई दिनों डाक घर के चक्कर लगाते रहे। आखिर में उपभोक्तों को बताया गया कि उप डाकपाल ने उनके साथ धोखाधड़ी की है। इसके चलते उप डाकपाल को निलंबित कर दिया गया है।

फर्जीबाड़ा सामने आने पर उपभोक्ताओं ने जीआरपी थाने में शिकायत दर्ज कराई। जीआरपी ने शिकायत पर जांच करते हुए 14 मई को आरोपित उप डाकपाल के खिलाफ आइपीसी की धारा 408, 420 के तहत मामला दर्ज कर उसे 19 मई को गिरफ्तार कर लिया। आरोपित को न्यायालय में पेश कर 08 दिन की पुलिस रिमांड पर लिया गया। लेकिन अब तक जीआरपी आरोपित से एक पैसे की रिकवरी भी नहीं कर पाई है।

आइपीएल सट्टेबाजी में गंवाया पैसा

उपभोक्ताओं की जमा पूंजी हड़पने वाले आरोपित उप डाकपाल को अपने किए पर जरा भी पछतावा नहीं है। जीआरपी द्वारा की गई पूछताछ में आरोपित ने सहज अंदाज में बता दिया कि उसने सिर्फ 9 उपभोक्ताओं के साथ नहीं, बल्कि 21 उपभोक्ताओं के साथ धोखाधड़ी की और 01 करोड़ 18 लाख रुपये आइपीएल में हार गया है। आरोपित ने बताया कि उसके पास उपभोक्ताओं का एक रुपया भी नहीं है।

शुरुआती जांच में नौ लोगों के नाम सामने आए थे। लेकिन पूछताछ में आरोपित ने अन्य लोगों के साथ भी धोखाधड़ी की बात स्वीकार की है। इस तरह पोस्ट आफिस घोटाला एक करोड़ से ऊपर पहुंच गया है। जिन ग्राहकों को अब तक यह जानकारी नहीं है कि उनके साथ धोखाधड़ी हुई है, उन्होंने बुलाकर पूछताछ की जा रही है। आरोपित ने स्वीकार किया है कि उसने उपभोक्ताओं की राशि आइपीएल सट्टेबाजी में खर्च कर दी है।

- अजय धुर्वे, प्रभारी, जीआरपी थाना बीना

Posted By: Ravindra Soni

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close