बीना (नवदुनिया न्यूज)। मां-बाप होने के नाते बच्चों को खूब पढ़ाना लिखा। अच्छे संस्कार देना, लेकिन एक बात याद रखना कि बच्चों को इतना लायक भी मत बनाना कि वह कल तुम्हें ही नालायक समझने लगें। अभी यह भूल की तो बुढ़ापे में रोना पड़ेगा। कई लोग यह भूल अपने जीवन में कर चुके हैं और आज रो रहे हैं। यह बात इटावा जैन मंदिर में धर्मसभा को संबोधित करते हुए मुनिश्री मुनिश्री विमलसागर महाराज ने कही।

मुुनिश्री ने आगे कहा कि बच्चों के झगड़ों में बड़ों को और सास-बहू के झगड़ों में बाप-बेटे को कभी नही पड़ना चाहिए। संभव है कि दिन में सास-बहू में कुछ कहा-सुनी हो जाए तो स्वाभाविक है वे रात को पति के घर आने पर इसकी शिकायत करेंगी। पति को उनकी शिकायत गौर से सुननी चाहिए, सहानुभूति भी दिखानी चाहिए। मगर सुबह जब सोकर उठें तो आगे पाठ पीछे सपाट' की नीति ही अपनानी चाहिए, तभी घर की एकता कायम रह सकती है। उन्होंने कहा कि भले ही लड़ लेना, झगड़ लेना, पिट जाना, पीट देना, मगर बोलचाल बंद मत करना। क्योंकि बोलचाल के बंद होते ही सुलह के सारे दरवाजे बंद हो जाते है। गुस्सा बुरा नहीं है। गुस्से के बाद आदमी जो बैर पाल लेता है, वह बुरा है। गुस्सा तो बच्चे भी करते हैं, मगर बच्चे बैर नहीं पालते। वह एक क्षण लड़ लेते हैं और दूसरे क्षण सुलह कर लेते हैं। यही व्यवहार अपने जीवन में करें तो सारे विवाद ही खत्म हो जाएंगे। आगे उन्होंने कहा कि संसार में अड़चन और परेशानियां न आए, ऐसा संभव नहीं है। प्रकृति का नियम ही ऐसा है कि जिंदगी में जितना सुख-दुःख मिलना है वह मिलकर ही रहेगा। मीठे के साथ नमकीन जरूरी है, तो सुख के साथ दुःख का होना भी लाजमी है। दुःख बड़े काम की चीज है। जिंदगी में अगर दुःख न हो तो कोई प्रभु को याद ही नहीं करेगा।

पिच्छिका परिवर्तन की तैयारियां शुरू

बड़ी बजरिया जैन मंदिर में चातुर्मास करने के कर रहे मुनिश्री विमलसागर महाराज, मुनिश्री अनंतसागर महाराज, मुनिश्री धर्मसागर महाराज एवं मुनिश्री भावसागर महाराज का पिच्छिका परिवर्तन शहर में जल्द संपन्ना होगा। इस के लिए तैयारियां शुरु हो गई हैं। अशोक शाकाहार ने बताया कि मुनि संघ की पुरानी पिच्छिका लेने एवं नवीन पिच्छिका देने वालों के लिए नियमावली फॉर्म उपलब्ध कराए जा रहे हैं, जो श्रावक संयम के मार्ग में एक समय सीमा एवं आजीवन व्रत, संयम, ब्रह्मचर्य नियम लेगा उसे पिच्छिका देने में प्राथमिकता दी जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस