- कलेक्टर ने बनाई जांच समिति, कल्पवृक्ष का होगा संरक्षण, मूर्तियां भी यथावत रहेंगी।

सागर(नवदुनिया प्रतिनिधि)। विधायक शैलेंद्र जैन ने संयुक्त प्रशासनिक नए कलेक्टोरेट परिसर में कल्प वृक्ष और उसके नीचे चबूतरे पर स्थापित हनुमानजी, गणेशजी, भोलेनाथ की प्रतिमाओं को प्रशासन द्वारा हटाने और चबूतरा तोड़े जाने की घटना को लेकर सख्त आपत्ति जताई है। उन्होंने प्रशासन को दो टूक कहा है कि इससे धार्मिक भावनाएं भड़केंगी। यह अनावश्यक और गैर जरूरी काम है। उन्होंने कल्पवृक्ष को करीब 700 साल पुराना बताते हुए इसे ऐतिहासिक धरोहर बताया है। वहीं कलेक्टर ने शुक्रवार को कहा कि कल्पवृक्ष का संरक्षण होगा और मंदिर भी यथावत रहेगा।

विधायक शैलेंद्र जैन ने बीती रात मामले की जानकारी लगते ही कलेक्टर दीपक सिंह व एडीएम अखिलेश जैन को फोन लगाकर मामले में कार्रवाई रोकने और प्रतिमाओं को वास्तविक और वर्तमान स्वरुप में बरकरार रखने की बात कही थी। प्रशासन ने सहमति भी दी थी। उन्होंने यह भी कहा था कि यह अनावश्यक काम है। कल्पवृक्ष सदियों पुराना है, जिसका करीब 700 वर्ष पुराना इतिहास बताया जा ता है। जब यह संयुक्त प्रशासनिक भवन बन रहा था, उस दौरान भी हमने इन दोनों कल्पवृक्ष और वहां के मंदिर और प्रतिमाओं को संरक्षति रखा था। तत्कालीन प्रशासनिक अधिकारी यहां आकर नतमस्तक होते थे। समझ नहीं आता हमारे हिंदू देवी-देवताओं की प्रतिमाएं हनुमानजी भोलेनाथ की प्रतिमाओं को गुपचुप तरीके से प्रशासन द्वारा हटाने का प्रयास क्यों किया जा रहा था। यह निंदनीय है। विधायक जैन ने सख्त लहजे में कहा कि प्रशासन इस तरह की गलती दोबारा ना दोहराये।

विधायक ने बताया कि मैंने कलेक्टर और संबंधित अधिकारियों से इस संबंध में बात कर स्पष्ट रुप से कहा है कि आगे से ऐसी कार्रवाई न की जाए और धार्मिक भावनाओं को आहत करने वाला काम कतई न किया जाए। उन्होंने बीती रात मौके पर विरोध जताने और काम रुकवाने वाले सभी लोगों का आभार भी जताया है।

- फोटो- 0708 एसए- विधायक शैलेंद्र जैन।

-----------------------

कल्पवृक्ष का होगा संरक्षण, मंदिर भी यथावत रहेगाः कलेक्टर

सागर(नवदुनिया प्रतिनिधि)।

विधायक शैलेंद्र जैन और हिंदूवादी संगठनों के मंदिर को तोड़े जाने के मामले में सख्त आपत्ति के बाद कलेक्टर दीपक सिंह ने मामले को गंभीर से लिया है। उन्होंने इस पूरे मामले में एक जांच समिति का गठन का तीन दिन में रिपोर्ट देने के निर्देश दिए हैं। कलेक्टर सिंह ने स्पष्ट किया है कि कलेक्ट्रेट परिसर स्थित कल्पवृक्ष और उसके नीचे मंदिर व मूर्तियां यथावत रहेंगी। कल्पवृक्ष का संरक्षण वन विभाग करेगा।

कलेक्टर दीपक सिंह ने शुक्रवार को मंदिर व चबूतरे पर स्थापित मूर्तियों को तोड़े जाने के मामले में एक्शन लेते एक तत्काल जांच समिति का गठन कर दिया है। कलेक्टर ने कहा है कि कल्पवृक्ष के नीचे मंदिर विवाद को लेकर वरिष्ठ अधिकारियों की जांच समिति बना दी है और यह समिति तीन दिन में जांच रिपोर्ट सबमिट कर देगी। उन्होंने बताया कि कल्पवृक्ष के संरक्षण के लिए वन विभाग को निर्देशित किया गया है। साथ ही कल्पवृक्ष के स्थान पर निर्मित मंदिर को यथावत किया गया है। कलेक्टर कार्यालय की कमेटी मंदिर की पूजा-अर्चना के लिए कलेक्टर कार्यालय की कमेटी एवं धर्मगुरुओं के बनाई जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020