- मंडी अधिनियम में संशोधन का किया विरोध

सागर(नवदुनिया प्रतिनिधि)। मप्र मंडी बोर्ड के आंचलिक कार्यालय में गुरुवार को अधिकारियों व कर्मचारियों ने काली पट्टी बांधकर काम किया। ये सभी मंडी अधिनियम 1972 में संशोधन का विरोध कर रहे थे। कर्मचारियों ने मकरोनिया स्थित मंडी बोर्ड के संभागीय कार्यालय परिसर में बाहं पर काली पट्टी बांधकर प्रदर्शन किया। इसके बाद एमडी के नाम संयुक्त संचालक एसके कुमरे को ज्ञापन सौंपा।

संयुक्त संघर्ष मोर्चा मध्य प्रदेश मंडी बोर्ड के आह्वान पर किए गए प्रदर्शन के दौरान मंडी कर्मचारियों का कहना था कि मप्र मंडी अधिनियम 1972 का नवीन संशोधन 01 मई 2020 से लागू होना है। इसके तहत प्राइवेट कंपनियों को मंडियों के अधिकार दिए गए हैं, जिससे मंडी कर्मचारियों का हित प्रभावित होने की आशंका है। मंडी कर्मचारी पेंशनर के परिवारों के सामने भरण-पोषण की समस्या उत्पन्न हो जाएगी। कर्मचारियों का कहना है कि इस संशोधन के लागू होने से किसानों के साथ लूट-खसोट बढ़ जाएगी।

ये रहे शामिल

प्रदर्शन करने वालों में इंजी. नारायण सिंह राजपूत, उपयंत्री नरेंद्र रावत, आरके जैन, वरिष्ठ अंकेक्षक भूपेंद्र प्रसाद पटेल, जेपी चौरसिया, नरेंद्र सिंह, सुंदर लाल वर्मा, रामदास रजक, सुनील शुक्ला, रूपेश कोरी, रमेश अहिरवार, फूलचंद एवं उदल सिंह सहित अन्य कर्मचारी शामिल रहे।

---------------------------------------------------

फोटो- 2805एसए 17 सागर। मप्र मंडी बोर्ड के आंचलिक कार्यालय में काली पट्टी बांधकर विरोध प्रदर्शन करते अधिकारी व कर्मचारी।

फोटो- 2805एसए 18 सागर। संयुक्त संचालक एसके कुमरे को एमडी के नाम ज्ञापन सौंपते मंडी बोर्ड के अधिकारी व कर्मचारी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना