Coronavirus Sagar News : सागर, नईदुनिया प्रतिनिधि। कोरोना संक्रमण से मौत के बाद भी एक इंसान को आसानी से मुक्ति न मिल सकी। पहले उसकी पार्थिव देह मर्चुरी में करीब 16 घंटे रखी रही, उसके बाद जब अंतिम संस्कार की बात आई तो लावारिस की तरह शव वाहन में मुक्ति की आस में एक मुक्तिधाम से दूसरे और फिर दूसरे से तीसरे मुक्तिधाम तक घूमती रही।

कुछ प्रशासनिक अनदेखी, कुछ निगम की लेट-लतीफी, उस पर परिजन की जिद के कारण आखिरकार उन्हें दुनिया से विदा होने के 20 घंटे बाद मुक्ति मिल सकी। कोविड-19 अस्पताल के आईसीयू में रविवार शाम को मढ़िया विट्ठल नगर निवासी 73 वर्षीय बुजुर्ग की कोरोना संक्रमण के इलाज के दौरान मृत्यु हो गई थी। उनका शव बीएमसी की मर्चुरी में देर रात शिफ्ट कर दिया था। परिजन आइसोलेट थे, इस कारण किसी को शव के अंतिम संस्कार की कोई जल्दबाजी नहीं थी।

दोपहर में स्थानीय प्रशासन और निगम प्रशासन की सहमति के बाद शव को बंद शव वाहन से नरयावली नाका मुक्तिधाम भेज दिया गया। यहां ड्राइवर कोरोना पॉजिटिव की डेड-बॉडी गाड़ी में रखकर अधिकारियों और परिजन का इंतजार करने लगा। उधर जब परिजन को आइसोलेशन से लाने की बात हुई तो उन्होंने नरयावली नाका मुक्तिधाम के बजाय मढ़िया विट्ठल नगर में अंतिम संस्कार की मांग रखी। अधिकारियों ने वाहन को मढ़िया विट्ठल नगर भेजने का निर्णय लिया तो पता चला कि जहां अंतिम संस्कार होगा वह इलाका आबादी के बीच है।

घनी आबादी के आसपास कोरोना पॉजिटिव के अंतिम संस्कार से खतरा मानते हुए प्रशासन ने फिर परिजनों से बात की। बाद में तय हुआ कि अंतिम संस्कार कपूरिया स्थित श्मशान घाट में कराया जाए। इस पर परिजन भी राजी हो गए। शव वाहन और निगम के कर्मचारियों व अन्य को कपूरिया पहुंचने के निर्देश दिए गए। जब शव वाहन यहां पहुंचा तो ड्राइवर यहां वाहन खड़ा करके अधिकारियों और परिजन के आने का इंतजार करने लगा।

निगम से दो सफाईकर्मी भी साढ़े चार बजे पहुंच गए थे, लेकिन कोई जिम्मेदार अधिकारी या परिजन नहीं पहुंच सके थे। शाम करीब 6 बजे अंतिम संस्कार कराया जा सका। इधर नगर निगम आयुक्त आरपी अहिरवार का कहना है कि प्रशासन जहां अंतिम संस्कार कराना चाहता था, वहां के लिए मृतक के परिजन तैयार नहीं थे। इसलिए अंतिम संस्कार में समय लगा। हमारे कर्मचारी भी तीन-तीन जगह भटकते रहे।

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना