Coronavirus Sagar News सागर(नवदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना मरीजों की जांच के मामले में सागर के कोविड के लिए आरक्षित बुंदेलखंड मेडिकल काॅलेज अस्पताल प्रबंध की लापरवाही सामने आई है। यहां पर आउटसोर्स के माध्यम से सीटी स्कैन यूनिट स्थापित की गई थी। कोविड काल में सागर सहित संभाग से आने वाले मरीजों की सीटी स्कैन जांच कर चेस्ट व लंग्स इंफेक्शन देखकर इलाज दिया जाता है, लेकिन बीते करीब 22 दिन से बीएमसी में एक भी कोविड मरीज की सीटी स्कैन जांच नहीं की गई है।

मशीन संचालित करने वाली फर्म व कर्मचारी तकनीकी खामी बताकर मशीन को बंद किये है, जबकि मशीन ठीक है। मामला भुगतान को लेकर अटका हुआ है। करीब 40 लाख रुपये का भुगतान बकाया बताया जा रहा है, जिस कारण सीटी स्कैन मशीन को जानबूझकर बंद कर दिया गया है।

कोरोना मामले में मरीज की जांच और इलाज को लेकर राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर गाइड लाइन जारी की गई है। इसमें एक्सरे-सीटी स्कैन जांच को अनिवार्य किया गया है। कोविड अस्पताल के डॉक्टर हर दूसरे कोरोना संक्रमित मरीज को सीटी स्कैन कराने की सलाह देते हैं, ताकि संक्रमण का स्तर पता चल सके, लेकिन सीटी स्कैन जांच बंद होने से यह संभव नहीं हो पा रहा है। मरीज के साथ डॉक्टर भी परेशान हैं।

करीब 40 लाख रुपये का भुगतान बकाया

नवदुनिया पड़ताल में सामने आया है कि बीएमसी में सीटी स्कैन मशीन में जो तकनीकी खराबी बताई जा रही है, वह मामूली है और चंद घंटों में सुधर सकती है, लेकिन सालों से सीटी स्कैन लगाने वाली एजेंसी का भुगतान रोककर रखा गया है, जिस कारण आउटसोर्स से मशीन लगाने वाली एजेंसी उसे सुधरवाने में रूचि नहीं ले रही है। अस्पताल प्रबंधन ने इस मामले में कॉलेज प्रशासन को अवगत कराया तो उसका पूरा लेखा-जोखा निकलवाया गया है। इसमें करीब 40 लाख रुपये बकाया बताया जा रहा है। एजेंसी को करीब 2016 से भुगतान ही नहीं किया गया है। इसमें आयुष्मान निरामय योजना के तहत कराई गई सीटी स्कैन जांचें जो कोविड के पहले की हैं, उनकी संख्या काफी ज्यादा है।

सीटी स्कैन चालू नहीं की तो एजेंसी को हटा देंगे

सीटी स्कैन मशीन में कुछ तकनीकी खामी आने के चलते मशीन बंद है। बीच में कुछ सीटी स्कैन किए गए हैं। भुगतान का ईश्यू भी सामने आया है। एजेंसी काे ताकीद किया गया है। मशीन चालू नहीं कराई तो वर्तमान एजेंसी को हटाकर किसी दूसरी एजेंसी का टेंडर कराया जाएगा।

- डॉ. राजेश जैन, अधीक्षक, बीएमसी अस्पताल सागर

10 लाख का भुगतान कर दिया है

सीटी स्कैन मशीन बंद होने की जानकारी मिली थी। मामले में मेरे सागर आने के पूर्व से एजेंसी का भुगतान नहीं किया गया था। करीब 2016 से भुगतान अटका है। फिलहाल 10 लाख रुपये का भुगतान कर दिया है।

- डॉ. जीएस पटेल, डीन बीएमसी सागर

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस