लापरवाहीः निगम ने नहीं भरे गड्ढे, विघ्नहर्ता हिचकोले-दचके खाते विसर्जन स्थल तक पहुंचे

- निजी तौर पर लोगों ने सड़कों के गड्ढों में भरा था मलबा, पानी में वह भी बह गया।

- नगर निगम ने छह महीने पहले किया था पेंचवर्क का टेंडर, वर्क ऑर्डर जारी नहीं किया गया।

सागर। नवदुनिया प्रतिनिधि

हिंदू और मुस्लिम समुदाय के बीते चार दिन में दो बड़े पर्व थे, पहले मोहर्रम और गुरुवार को गणेशोत्सव के बावजूद शहर के गड्ढे नहीं भरे जा सके। मंगलवार को ताजिये निकले और गुरुवार को विघ्नहर्ता, मंगलमूर्ति की झांकियों को हिचकोले खाते हुए विसर्जन स्थल तक पहुंचना पड़ा। कटरा बाजार को छोड़कर अमूमन सारे शहर की सड़कों के ऐसे ही हाल है। निगम प्रशासन ने करीब छह महीने पहले सड़कों की पेचवर्क का टेंडर किया था, लेकिन ठेकेदार को वर्कऑर्डर ही नहीं दिया। जब तक मामला सामने आया और पेचवर्क का ऑर्डर दिया तब तक बारिश खेल बिगाड़ चुकी थी और पर्व सिर पर आ गए।

सागर में ऐसा पहली दफा हुआ है कि गणेशोत्सव और मोहर्ररम से ठीक पहले गड्ढों से जर्जर हो चुकी सड़कों की मरम्मत नहीं हो सकी। गुरुवार को शहर में चारों तरफ से शहर के बीचों-बीच से गणेशोत्सव के चल समारोह निकाले गए। छोटी प्रतिमा से लेकर करीब 16 फीट तक की भारी-भरकम प्रतिमाएं शहर से गुजरीं। इस दौरान बड़ी प्रतिमाओं को लेकर निकली कमेटियों के सदस्यों और वाहन चालकों को मुसीबत उठाना पड़ी। दरअसल सड़कों पर बड़े-बड़े और आधा से एक फीट तक के गड्ढों में जब झांकियों को ले जा रहे वाहनों के पहिए उतरे तो सांसे फूलने लगी कि कहीं प्रतिमा झुकाव खाकर नीचे न गिर जाएं। बहरहाल गणेश भगवान की कृपा से चल समारोह आराम से निकल गया और कोई दुर्घटना या हादसा होने से टल गया।

छह महीने में ठेकेदार को वर्क ऑर्डर नहीं दिया

निगम प्रशासन ने लोकसभा चुनाव से पूर्व ही शहर में पेचवर्क का टेंडर जारी किया था। करीब एक महीने से महापौर, आयुक्त और अन्य जनप्रतिनिधियों ने जब सड़कों की जर्जर और खस्ताहाल को लेकर रिव्यु किया और ठेकेदारों को फटकार लगाते हुए तुरंत काम शुरू करने के लिए ताकीद किया तो पता चला कि ठेकेदार को वर्क ऑर्डर ही जारी नहीं किया गया है। आयुक्त ने फाइलें अपने पास बुलवाई तो नया पेच सामने आया कि पुराने ठेकेदार को वर्क ऑर्डर देने के कारण निगम प्रशासन पर अंगुलियां न उठने लगे। तय किया गया कि फिलहाल बारिश थमते ही वर्तमान टेंडर लेने वाले ठेकेदार से काम कराया जाए। इसी के साथ नया टेंडर भी जारी किया गया। यदि वर्तमान टेंडर से कम रेट आते हैं तो नए ठेकेदार को वर्क ऑर्डर दिया जाए अन्यथा वर्तमान ठेकेदार से ही काम कराया जाए।

बारिश थमते ही काम शुरू हो जाएगा

निगम प्रशासन ने पूर्व में पेचवर्क का टेंडर स्वीकृत किया था, उसे कतिपय कारणों से वर्क ऑर्डर नहीं दिया गया था। मामला सुलझा लिया गया है। बारिश थमते ही गुणवत्ता के साथ शहर के सारे गड्ढे भर जाएंगे। काम लगाने के आदेश ठेकेदार और इंजीनियरों को दिए गए हैं। पेचवर्क के लिए नया टेंडर भी कर रहे हैं। यदि रेट कम आते हैं तो नया टेंडर स्वीकृत कर दिया जाएगा, अन्यथा वर्तमान टेंडर की दरों के आधार पर ही काम कराया जाएगा।

- आरपी अहिरवार, निगमायुक्त, नगर निगम सागर

----------------

फोटो- 1309 एसए- 21 सागर। धर्मश्री से मोतीनगर सड़क पर से गणेशोत्सव की झांकी निकलते हुए और सड़क की हालत।

फोटो- 1309 एसए- 2 सागर। मोतीनगर तिराहे से भोपाल रोड लेहदरा नाका की तरफ जाने वाला मार्ग, यहीं से गणेशोत्सव की सैकड़ों झांकियां निकली थीं।

फोटो- 1309 एसए- 3 सागर। राजीव नगर वार्ड में रविशंकर स्कूल के सामने गणेशोत्सव की झांकी निकलते हुए और सड़क की हालत।

फोटो- 1309 एसए- 5 सागर। राहतगढ़ बस स्टैंड पर विजय टॉकीज चौराहे की तरफ जाने वाला मुख्य मार्ग।

फोटो- 1309 एसए- 6 सागर। झांसी बस स्टैंड के सामने के सड़क के हालात।

-------------

कैंट इलाके में स्कूल से पहले गड्ढों में गिरकर घायल हो रहे बच्चे

छावनी परिषद क्षेत्र में भी सड़कों की स्थिति काफी खराब हो गई है। यहां पर कॉन्वेंट स्कूल व बहेरिया जाने वाले मार्ग पर चौराहे से ठीक पहले करीब 10 से 15 फीट चौड़े और आधा से एक फीट गहरे तक गड्ढे हो गए हैं। यहां से कॉन्वेंट स्कूल सहित पटकुई-बरारू स्कूल जाने के लिए बच्चे सायकल से स्वयं व अभिभावकों के साथ दुपहिया वाहनों पर स्कूल जाते हैं। दोपहर में यहां गड्ढों में दो वाहन गिर गए। इसमें बच्चे और मां को हल्की चोटें लगी हैं। स्कूल तक पहुंचकर इस मामले में जानकारी भी दी गई थी। कैंट की सड़कों की दुर्दशा को लेकर अभिभावक सोमवार को जिला प्रशासन और छावनी प्रशासन को ज्ञापन सौंपेंगे।

फोटो- 1309 एसए- 7 सागर। कैंट इलाके कॉन्वेंट स्कूल व बामौरा की तरफ जाने वाले चौराहे की खस्ता हालत।