सागर(नवदुनिया प्रतिनिधि)। गरीबों के राशन में हेराफेरी करने वाले दुकानदारों के खिलाफ कलेक्टर दीपक आर्य ने दो दिन में तीन बड़ी कार्रवाई की है। धान खरीदी में लाखों का घोटाला करने वालों के खिलाफ एफआइआर करने के बाद जिला प्रशासन ने अब परसोरिया राशन दुकान में भी गड़बड़ी मिलने पर शासकीय उचित मूल्य दुकान के तत्कालीन विक्रेता नीरज दुबे एवं एफपीएस-2 अंशुल सोनी पर चोर बाजारी निवारण एवं आवश्यक वस्तु प्रदाय अधिनियम के अंतर्गत कार्रवाई है। वहीं सागर एसडीएम अमन मिश्रा ने करीब 27 लाख रुपये वसूली के आदेश भी दिए हैं।

दरअसल परसोरिया राशन दुकान में राशन वितरण में हेराफेरी किए जाने की लंबे समय से कई शिकायतें सामने आ रही थी, जिसकों लेकर क्षेत्र के लोगों द्वारा उग्र प्रदर्शन भी किया जा चुका है। इस मामले में कलेक्टर दीपक आर्य के निर्देश पर सागर ग्रामीण की कनिष्ठ आपूर्ति अधिकारी चारू जैन द्वारा सेवा सहकारी समिति मर्यादित केरबना में संलग्न शासकीय उचित मूल्य दुकान परसोरिया की दिनांक 27 दिसंबर 2021 को जांच की गई। इस संबंध में प्रतिवेदन दिनांक 30 दिसंबर एवं 7 जनवरी 2022 को प्रस्तुत पूरक प्रतिवेदन प्रस्तुत किए जाने पर सागर अनुविभागीय अधिकारी राजस्व अमन मिश्रा द्वारा खाद्यान्ना की मात्रा की राशि 26,79,007 रुपए नीरज दुबे एवं अंशुल सोनी से वसूली के आदेश दिए गए हैं।

हितग्राहियों को राशन से रखा वंचित, कई बार दिए ज्ञापन

वसूली के आदेश देने के बाद एसडीएम द्वारा प्रकरण की गंभीरता को देखते हुए अग्रिम कार्रवाई के लिए कलेक्टर दीपक आर्य के लिए प्रतिवेदन प्रेषित किया, जिसमें कलेक्टर श्री आर्य द्वारा प्रकरण का विस्तृत अवलोकन किया जिसमें अनावेदक परसोरिया शासकीय उचित मूल्य दुकान के विक्रेता नीरज दुबे एवं अनावेदक एपीएस 2 अंशुल सोनी द्वारा हितग्राहियों को खाद्य सुरक्षा अधिनियम 2013 के लाभ से वंचित रखा गया। आवश्यक वस्तुओं की पूर्ति में प्रभाव डाला गया। इस संबंध में क्षेत्र के लोगों द्वारा जनसुनवाई में आवेदन देने के अलावा स्थानीय स्तर पर भी प्रदर्शन किया गया था।

छह माह तक जेल में रखने के आदेश

कलेक्टर श्री आर्य द्वारा संबंधितों के विरुद्ध चोर बाजारी निवारण एवं आवश्यक वस्तु प्रदाय अधिनियम 1980 की धारा 3(1) दो एवं सहपठित धारा 3(2) में प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए संबंधितों को जेल में 6 माह की अवधि तक निरुद्ध रखने का आदेश दिया है। कलेक्टर श्री आर्य द्वारा दिए गए आदेश के पालन में थाना प्रभारी कोतवाली सागर के द्वारा नीरज दुबे एवं अंशुल सोनी को जेल में निरुद्ध किया गया। कलेक्टर श्री आर्य ने कहा कि मेरे पास भी कुछ दिनों से शिकायतें आ रही थी और दुकानदार के खिलाफ पहले भी कार्रवाई हो चुकी है, लेकिन चेतावनी के बाद भी सुधार न होने पर एफआइआर की कार्रवाई की गई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local