प्राचार्य और एसडीएम की मौजूदगी में हुई बैठक

गढ़ाकोटा। शासकीय पीजी कॉलेज गढ़ाकोटा में कॉलेज प्राचार्य डॉ. एसएम पचौरी व एसडीएम जितेंद्र पटेल की अध्यक्षता में जनभागीदारी समिति की बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। जानकारी के अनुसार बैठक में कॉलेज में संस्कृत विषय खोलने पर विचार-विमर्श किया गया। इस संबंध में शासन से पत्राचार करने की बात कही गई। वहीं शिक्षण सत्र 2019-20 में कराए गए निर्माण कार्यों की समीक्षा की गई। जनभागीदारी स्ववित्तीय योजना के अंतर्गत कर्मचारियों के मानदेय वृद्धि पर भी निर्णय लिया गया तथा 12 करोड़ 37 लाख के निर्माण कार्यो का अवलोकन कर उनकी प्रगति पर भी चर्चा की गई। इस मौके पर कॉलेज परिसर में पौधारोपण कराए जाने पर जोर दिया गया। बैठक में समिति प्रभारी डॉ. एके सिन्हा, डॉ. एके जैन, सदस्य एनपी कुमार, डॉ. घनश्याम भारती, डॉ. सुनील विश्वकर्मा, डॉ. कलसिंह पटेलिया, आकृति खरे तथा मुख्य लिपिक बीएल अनुरागी उपस्थित थे।

0607 एसजीआर 151 गढ़ाकोटा। जनभागीदारी समिति की बैठक में चर्चा करते एसडीएम व प्राचार्य।

................................

बाजार में उमड़ रही भीड़, नहीं हो रहा शारीरिक दूरी का पालन

मालथौन। कोरोना संक्रमण के चलते लोगों से शारीरिक दूरी का पालन करने की सख्त हिदायत दी जा रही है, लेकिन इसका पालन होता नजर नहीं आ रहा है। हालत यह है कि मालथौन के गली, मोहल्लों व बाजारों में भीड़ नजर आती है। बाजार में खरीदी करने के लिए लोग उमड़ परते हैं। दुकानदार भी किसी तरह की अहतियात नहीं बरत रहे हैं। इससे स्थिति बिगड़ने की आशंका बनी रहती है।

0607 एसजीआर 156 मालथौन। बाजार में उमड़ी भीड़, नहीं हो रहा शारीरिक दूरी का पालन।

.................

यात्री प्रतीक्षालय क्षतिग्रस्त, बारिश में भींगेंगे यात्री

गढ़ाकोटा। सागर- दमोह मार्ग निर्माण के दौरान प्रत्येक गांव के स्टॉप पर पक्के व मजबूत यात्री प्रतीक्षालय का निर्माण किया गया था, लेकिन इनमें से कई यात्री प्रतीक्षालय क्षतिग्रस्त हो गए हैं। कई यात्री प्रतिक्षालय के टीनशेड गायब हैं तो कुछ की कुर्सियां क्षतिग्रस्त हो गई हैं। जानकारी के मुताबिक साजली गांव के पास बना यात्री प्रतीक्षालय पूरी तरह ही जमींदोज हो गया है। लोगों के मुताबिक इस यात्री प्रतीक्षालय की इस हालत के लिए स्थानीय लोग ही जिम्मेदार हैं। लोगों ने ही अनदेखी कर पहले इस यात्री प्रतीक्षालय की कुर्सियां तोड़ी, फिर धीरे-धीरे पिलर को नुकसान पहुंचाया। वर्तमान में यह यात्री प्रतीक्षालय के पिलर जमीं पर झुक गए हैं। ग्रामीणों के मुताबिक जहां यात्री प्रतीक्षालय टूट गया है।

................

सागर से एनएच 26 को जोड़ने वाला मार्ग गड्ढों में तब्दील, लोग परेशान

- भैंसा से होकर गढ़पहरा होते हुए नेशनल हाइवे को जोड़ता है रास्ता

बांदरी (नवदुनिया न्यूज)।

सागर-झांसी फोरलेन से बायपास गढ़पहरा होते हुए सागर जाने वाला मार्ग सालभर में ही बदहाल होने लगा है। इन दिनों इस पुराने हाइवे पर ग्राम भैंसा के पास लगभग पांच किमी की दूरी में डामर गायब है। केवल गड्ढे और गिट्टी ही दिखाई दे रही हैं। इससे वाहन चालकों को मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। भैंसा पहाड़ी तथा भोपाल बायपास मार्ग तक बड़े-बड़े गड्ढे हो गए हैं। इस मार्ग पर दिन-रात भारी वाहनों की आवाजाही बनी रहती है, लेकिन उबड़-खाबड़ और गड्ढों के कारण हादसों का खतरा बढ़ गया है। गढ़पहरा आने वाले श्रद्धालुओं को भी जर्जर मार्ग के कारण परेशान होना पड़ रहा है। आरोप है कि सड़क पर भ्रष्टाचार की पर्त, सालभर भी साथ नहीं देती।

हर बार गुणवत्ता सवालों के घेरे में रही

जानकारी के मुताबिक वर्ष 2012 में लगभग 6 करोड़ रुपये की राशि इस 9 किलोमीटर की सड़क को बनाने के लिए स्वीकृत हुई थी, लेकिन 2016 तक करीब तीन बार सड़क का निर्माण हुआ, लेकिन हर बार ही गुणवत्ता सवालों के घेरे में रही। पीडब्ल्यूडी के सुपरविजन में तैयार हुए अकेले इस मार्ग को लेकर गुणवत्ता पर सवालिया निशान नहीं लग रहे हैं। इसी मार्ग से लगे भैंसा बायपास की स्थिति तो और भी ज्यादा खराब है। यहां भैंसा पहाड़ी से फोरलेन तक रोड बदहाल हो गई है। गिट्टी से लोग घायल हो रहे हैं। इस समस्या को लेकर कुड़ारी गांव के सैकड़ों लोग आंदोलन भी कर चुके हैं। गांव के लोगों का आरोप है कि सांठगांठ के चलते घटिया काम कराया जाता है। सालभर में डामर की पर्त उखड़ जाती है। 10 साल में तीन बार सड़क की मरहम-पट्टी का काम हुआ, लेकिन भ्रष्टाचार की यह पर्त ज्यादा दिन तक नहीं चलती। अब तक लाखों रुपए इस रोड पर खर्च हो चुके हैं।

श्रद्धालुओं को गढ़पहराधाम जाने में दिक्कत

बरसात में इस रोड पर कीचड़ हो जाने से श्रद्धालुओं को गढ़पहरा धाम तक आने-जाने में खासी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। पुराने हाइवे की इस बदहाली से गढ़पहरा, कुड़ारी, रानीपुरा, भैंसा गांव के लोगों ने आक्रोश है। लोगों का कहना है कि जिलेभर से श्रद्धालु हनुमान जी के दर्शनों के लिए गढ़पहराधाम आते हैं। राजधानी व फोरलेन को जोड़ने वाली इस रोड पर सबसे अधिक ट्रैफिक रहता है। मार्ग पर दिन-रात भारी वाहनों की आवाजाही बनी रहती है, लेकिन उबड़-खाबड़ और गड्ढों के कारण हादसों का खतरा बढ़ गया है। सड़क खराब होने की वजह से वाहन चालक हलकान व परेशान हैं।

0607 एसजीआर 152 व 153 बांदरी। सागर से हाइवे को जोड़ने वाले मार्ग भैंसा के पास इस तरह दुर्दशा का शिकार है।

0607 एसजीआर 154 बांदरी। फोरलेन को जोड़ने वाला मार्ग पर जगह-जगह इस तरह गड्ढे हैं।

...........................

असुरक्षा के साथ संचालित है एटीएम

रहली। रहली में एटीएम संचालन में लापरवाही बरती जा रही है। लोगों का कहना है कि एक ही बूथ में तीन-तीन एटीएम मशीन लगाई गई हैं, लेकिन इसमें गोपनीयता व सुरक्षा के इंतजाम नहीं किए हैं। लोगों का कहना है कि एक कमरे में लगाई गई एक साथ तीन एटीएम मशीन से लेनदेन करते समय गोपनीयता नहीं रह पाती। इसके चलते पिछले दिनों अनेक घटना घटित हुई। इसमें बिना एटीएम कार्ड कंप्यूटर से धोखाधड़ी कर खाताधारियों के खाता से राशि का आहरण हो गया। पता भी नहीं चला। लोगों का कहना है कि भारतीय स्टेट बैंक शाखा रहली ने 10-12 फीट के कमरे में तीन-तीन एटीएम तो लगा दिए लेकिन इनके बीच कोई सुरक्षा दिवार नहीं बनाई। एक व्यक्ति दूसरे मशीन को ऑपरेट करते हुए आसानी से देख सकता है। इस कारण खातों से धोखाधड़ी होना बिल्कुल आसान हो जाता है। एटीएम पर कोई गार्ड ना होने से एक साथ कई लोग एटीएम कक्ष में प्रवेश कर रुके रहकर आते-जाते हैं। इन्हें रोकने, समझाने वाला भी कोई नहीं होता। एटीएम के बाहर पार्किंग न होने से सड़क का आवागमन भी बहुत अधिक प्रभावित होता है। भीड़ के चलते पिछले महीने में दो लोगों के साथ थैले से पैसा निकालने के मामले भी सामने आए थे। इनकी पुलिस रिपोर्ट की गई थी, लेकिन अज्ञात आरोपितों का पता नहीं चल सका था।

0607 एसजीआर 155 रहली। एक कक्ष में पास-पास लगे एटीएम।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan