सागर। तिली वार्ड के सीमेंट और आइस्क्रीम के कारोबारी अजय चौरसिया और उनकी बेटी महिमा के खून से लथपथ शव मंगलवार की रात पथरिया जाट रोड पर सड़क किनारे खड़ी कार में मिले, जबकि व्यापारी की पत्नी राधा कार की पिछली सीट पर बदहवास हालत में मिलीं।

पुलिस का मानना है कि पिता ने पहले गोली मारकर बेटी की हत्या की होगी और फिर खुद को गोली मारकर जान दे दी। बताया जा रहा है व्यापारी पर दो करोड़ का कर्ज था, इससे परेशान होकर उसने यह कदम उठाया। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

पुलिस के मुताबिक मंगलवार की रात करीब 9 बजे पथरिया जाट रोड पर तिली वार्ड के शकुंतला ट्रेडर्स के संचालक अजय चौरसिया (45) और उनकी बेटी महिमा (18) मृत मिले। कार की पिछली सीट पर व्यापारी की पत्नी राधा बदहवास मिली। पुलिस को मृतक अजय के मामा के पास से सुसाइड नोट मिला है। उसमें अजय ने लिखा है कि आर्थिक तंगी के कारण मामा मैं जा रहा हूं।

परिजनों के मुताबिक अजय मंगलवार रात करीब 9 बजे पत्नी राधा और बेटी महिमा को रेस्टोरेंट में खाना खिलाने का कहकर कार से निकला था। छोटी बेटी ने साथ जाने से मना कर दिया था, उसे घर ही छोड़ गए थे। देर रात तक तीनों घर नहीं लौटे।

रात करीब 1.40 बजे सिविल लाइन थाने की एफआरवी वैन के पुलिसकर्मी पथरिया जाट रोड पर गश्त कर रहे थे, तभी उन्हें सड़क किनारे इंडीकेटर जलती कार खड़ी मिली, जिसमें ड्राइविंग सीट पर एक व्यक्ति व साइड की सीट पर युवती के शव खून से लथपथ पड़े थे, पीछे की सीट पर एक महिला बदहवास हालत में थी।

एसपी अमित सांंघी ने बताया कि प्रारंभिक जांच में पाया गया है कि अजय कोल्ड ड्रिंक में नशीली दवा मिलाकर पत्नी व बेटी को घर से कार से सुनसान इलाके में लाया होगा। अजय ने पहले पिस्टल से बेटी महिमा के माथे पर गोली मारी, बाद में खुद की कनपटी में गोली मारकर आत्महत्या कर ली।

घटना स्थल से तीस फीट की दूरी पर गोली का खाली खोका पुलिस को मिला है। पिस्टल न मिलने के सवाल पर एसपी का कहना है संदेह है कि अजय ने घबराहट में पिस्टल कार के बाहर फेंक दी होगी, कोई राहगीर उसे ले गया होगा। चर्चा तो यह है कि अजय पर बैंक व साहूकारों का करीब 2 करोड़ रुपए का कर्ज था। कर्ज न चुका पाने के कारण उसने यह आत्मघाती कदम उठाया होगा। सिविल लाइन थाने में हत्या और आत्महत्या का केस दर्ज किया गया है।