सागर(नवदुनिया प्रतिनिधि)। सागर शहर के हर व्यक्ति को सुरक्षित बनाने शहर के चिन्हित स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाकर इस स्मार्ट सिटी के इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर से निगरानी रखी जाएगी। वुमन सेफ्टी, सेफ सिटी, साइबर क्राइम प्रिवेंशन, सिटी सर्विलांस आदि विषयों को लेकर कलेक्टर एवं सागर स्मार्ट सिटी अध्यक्ष दीपक सिंह व पुलिस अधीक्षक अतुल सिंह ने गुरुवार को सागर स्मार्ट सिटी कार्यालय में जिले के अधिकारियों की बैठक ली।

कलेक्टर श्री सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के निर्देशानुसार जिले में महिला सुरक्षा और सेफ सिटी अंतर्गत जनवरी माह में कार्य योजना तैयार की गई है। सागर सिटी को पूर्ण रूप से सुरक्षित बनाने के लिए टेक्नोलॉजी की हर संभव मदद ली जाएगी, जिसमें जिले के चिन्हित स्थलों जैसे बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, गर्ल्स स्कूल, गर्ल्स कॉलेज, शॉपिंग मॉल आदि पर कैमरे लगा कर स्मार्ट सिटी के इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर से निगरानी की जाएगी। इसके लिए वॉलंटियर्स तैनात किए जाएंगे। महिला एवं बच्चों की सुरक्षा के लिए सहायता एप तैयार किया जाएगा। महिला सुरक्षा के लिए सर्वे के माध्यम से जानकारी एकत्रित कर विशेषज्ञों द्वारा एनालाइज किया जाएगा और प्राप्त रिपोर्ट के आधार पर अपराधों को रोकने की व्यवस्था की जाएगी।

महिलाओं के बीच से ही बनाई जाएंगी महिला सुरक्षा ब्रांड अम्बेसडर

बैठक में निर्णय लिया गया कि स्व सहायता समूह एवं ऐसी महिलाएं जिन्होंने समाज सुधार में अच्छे कार्य किए हैं उन्हें ब्रांड अंबेसडर बनाकर स्कूल कॉलेज की छात्राओं, कामकाजी महिलाओं आदि को जागरूक करने व काउंसिलिंग ट्रेनिंग का कार्य किया जाएगा। वहीं स्मार्ट सिटी के इंटीग्रेटेड कमांड एंड कंट्रोल सेंटर में महिला सुरक्षा संबंधी हेल्पलाइन भी इंटीग्रेट की जाएगी, जिसकी मदद से आवश्यकता पढ़ने पर महिलाओं को त्वरित सहायता मिलेगी।यहां से वीडियो कॉलिंग के माध्यम से विशेषज्ञों द्वारा भी समय-समय पर काउंसिलिंग की जाएगी।

अपराध होने से पहले उसे रोकने का प्रयास

पुलिस अधीक्षक अतुल सिंह ने कहा कि शहर में सर्विलांस सिस्टम अंतर्गत कैमरे लगे हैं जिनकी मॉनिटरिंग पुलिस कंट्रोल रूम एवं स्मार्ट सिटी द्वारा की जा रही है। इसके साथ ही प्राइवेट कैमरों का सर्वे कर गूगल मैप से जोड़ा गया है। अब ऐसी व्यवस्था की जा रही है कि कैमरों की भी मॉनिटरिंग पुलिस कंट्रोल रूम से की जा सके जिससे शहर की अधिकांश गली मोहल्लों की सतत निगरानी की जा सके व अपराधों को होने से पहले ही रोका जा सके। स्मार्ट सिटी द्वारा मुख्य चौराहों पर एमरजेंसी कॉल बॉक्स लगाएं गए है जिन पर आप किसी भी आपात स्थिति की जानकारी सिर्फ एक बटन दवा कर दे सकते है। जागरूकता अभियान अंतर्गत महिला आरक्षकों को महिला अपराध रोकथाम संबंधित विशेष ट्रेनिंग दी जा रही है।

सागर को सुरक्षित सिटी बनाएंगे

ट्राइबल आबादी एवं अन्य जहां अपराध अधिक हो रहे हैं उन्हें चिन्हित कर हॉट स्पॉट बनाया जाएगा। पुख्ता सुरक्षा इंतजाम किए जाएंगे। अपराधों को होने से पहले ही रोका जा सके इसके लिए जल्द ही सर्वे करा कर रिपोर्ट एनालिसिस किया जाएगा और विशेष टेक्नोलॉजी का यूज कर सुरक्षित सिटी बनाया जाएगा। महिला एवं बाल विकास अधिकारी ने महिला सम्मान कार्यक्रम जनवरी माह की पूर्ण जानकारी देते हुए बताया शहर में एक वन स्टॉप सेंटर है जो कि आपराधिक गतिविधियों से मुसीबत में पड़ी महिलाओं को सीमित समय के लिए आश्रय देता है। महिला सुरक्षा संबंधी कानूनों की जानकारी आमजन तक पहुंचाने के लिए वेबिनार, नुक्कड़ नाटक, प्रेसवार्ता, जागरूकता रथ आदि से सभी को जागरूक किया जाएगा। बैठक में स्मार्ट सिटी सीइओ राहुल सिंह राजपूत, एडिशनल एसपी सिटी विक्रम सिंह, महिला बाल विकास अधिकारी भरत सिंह राजपूत आदि शामिल थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस