सुविधा की मांग : बीना-सागर-कटनी रूट से 32 ट्रेनों का हो रहा है संचालन किया

बसंत सेन। सागर। नवदुनिया प्रतिनिधि

संभागीय मुख्यालय के सागर रेलवे स्टेशन का विस्तार तो करा दिया, लेकिन दो साल में एक भी नई रेल सुविधा केंद्र सरकार ने इस क्षेत्र की जनता को नहीं दी, वहीं मौजूदा एक्सप्रेस ट्रेनों के फेरे में कटौती किए जाने की तैयारी रेलवे बोर्ड ने शुरू कर दी। स्थानीय नागरिक व संगठन लंबे समय से दक्षिण के लिए नागपुर होते हुए सीधी रेल सुविधा की मांग लंबे समय से करते आ रहे है, जो पूरी नहीं की गई। ठीक इसके विपरीत बघेल खंड और महाकौशन क्षेत्र के नेताओं ने अपने प्रभाव का उपयोग कर रीवा से नागपुर और जबलपुर से नागपुर के लिए एक्सप्रेस ट्रेन शुरू करा दी।

बीना-सागर-कटनी रूट से हर दिन डेली व साप्ताहिक 32 जोड़ी ट्रेनों का संचालन किया जा रहा है। कुछ साप्ताहिक ट्रेनें ऐसी है उनकी लोगों को किस दिन और कितने समय पर आती है। इसकी जानकारी नहीं है। इससे लोग इस सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे है। जो ट्रेनें नियमित चल रही है उन्हें कभी भी तकनीकी या अन्य कारण बताकर निरस्त कर दिया जाता है। 6 माह में भोपाल से बिलासपुर के बीच चलने वाली फास्ट पैसेंजर ट्रेन करीब डेढ़ माह तक निरस्त रही। इंदौर से हावड़ा के बीच सप्ताह में चार दिन चलने वाली शिप्रा एक्सप्रेस को नियमित चलाए जाने की मांग लंबे समय से क्षेत्र के लोग करते आ रहे है। लोकसभा चुनाव के पहले रेल मंत्री पीयूष गोयल ने भोपाल में आयोजित एक कार्यक्रम में इस ट्रेन को नियमित करने की घोषणा की थी। रेल मंत्री की यह घोषणा तो पूरी नहीं हुई, उल्टे इस ट्रेन को रूट बदलने की तैयारी की जा रही है। सूत्रों का कहना कुर्ला से बनारस के बीच नियमित चलने वाली कामायनी एक्सप्रेस को सप्ताह में तीन दिन बाया जबलपुर होकर चलाने की तैयारी है। हालांकि इसकी अधिकारिक रूप से घोषणा नहीं की गई, लेकिन जबलपुर संभाग के सांसदों ने यह प्रस्ताव रेलवे बोर्ड को भेजा है।

अटारी एक्स्प्रेस का एक फेरा कम

जानकारी के अनुसार जबलपुर से अटारी के बीच सप्ताह में दो दिन चलने वाली एक्सप्रेस ट्रेन के फेरे में कटौती की जा रही है। यह ट्रेन अब सप्ताह में एक दिन बीना-कटनी रूट व सप्ताह में एक दिन व्हाया जबलपुर भोपाल होकर चलाने की तैयारी है। भोपाल से हावड़ा के बीच चलने वाली सप्ताहिक एक्सप्रेस ट्रेन को बिना कारण बताए एक साल पहले बंद कर दिया गया है। इंदौर-रीवा व्हाया गुना इंटर सिटी एक्सप्रेस को भी रेलवे ने बंद कर दिया है।

दिल्ली में अगले माह धरना

बुंदेलखंड सर्व दलीय नागरिक संघर्ष मोर्चा रेल सुविधाओं कटौती करने के विरोध में 17 और 19 सितंबर को दिल्ली में जंतर-मंतर पर दो दिवसीय धरना देगा। मोर्चा के संरक्षक रघु ठाकुर का कहना है दो साल में बुंदेलखंड को एक भी नई ट्रेन नहीं मिली है। उल्टे ट्रेनों के फेरे बढ़ाने के बजाए कम किए जा रहे है। मोर्चा की मांग है दक्षिण के लिए नागपुर होते हुए ट्रेन चलाई जाए। शिप्रा एक्सप्रेस को सातों दिन बीना-कटनी रेल खंड से चलाया जाए, बुंदेलखंड की लंबित रेल परियोजनाओं के लिए बजट का आवंटन किया जाए।

बीना में शताब्दी का स्टापेज

क्षेत्रीय रेल सेवा सुधार समिति के पूर्व सदस्य अब्दुल रसीद भाई ने रेलवे को सुझाव दिया है। दिल्ली से हबीबगंज के बीच चलने वाली शताब्दी सुपर फास्ट एक्सप्रेस का स्टापेज सागर संभाग के बीना जंघसन रेलवे स्टेशन पर किया जाए। जिससे दिल्ली जाने वाले क्षेत्र के लोगों को इस ट्रेन की सुविधा मिल सके। उनका तर्क है कि शताब्दी एक्सप्रेस का स्टापेज उप्र के ललितपुर और मप्र के मुरैना रेलवे स्टेशन पर क्षेत्र के दो केंद्रीय मंत्रियों के दबाव में कराया गया था। पूर्व सांसद लक्ष्मी नारायण यादव की मांग को रेलवे से तकनीकी कारण बताकर मानने से इंकार कर दिया।

बाक्स...

सागर की अनदेखी क्यों

रेल सुविधा के बारे में सागर के लोगों की अनदेखी क्यों की जा रही है। क्या सागर के लोगों ने भाजपा को वोट नहीं दिए या संसद में क्षेत्र की आवाज उठाने वाला सक्षम नेतृत्व सागर से नहीं उभर रहा है। रीवा से नागपुर और जबलपुर से नागपुर ये ट्रेनें एक साल के दौरान शुरू की गई है। हॉल ही में जबलपुर से हरिद्वार एक्सप्रेस ट्रेन शुरू की गई है। लेकिन दमोह-सागर के लोगों को एक भी ट्रेन नहीं चलाई गई। लोगों से मांग उठने लगी है कि नागपुर के लिए रीवा या जबलपुर से चलने वाली दोनों में से किसी एक ट्रेन को इस रूट से नियमित नहीं तो सप्ताह में कम से कम तीन दिन होकर चलाया जाए। जिससे नागपुर इलाज कराने जाने वाले लोगों को सुविधा मिल सके। क्षेत्र के लोगों को इलाज कराने बस से नागपुर जाना पड़ता हैं उन्हें समय और किराया भी अधिक लगता है।

सांसद बोले-प्रयास करूंगा

नवदुनिया के हर वोट कुछ कहता है कार्यक्रम में क्षेत्र के सांसद राजबहादुर सिंह आए थे। रेल सेवा सुधार समिति के अध्यक्ष रवि सोनी व खुरई क्षेत्र के नागरिकों ने उन्हें ज्ञापन देकर रेल सुविधाओं के विस्तार की मांग की। सोनी ने दक्षिण के लिए ट्रेन, शिप्रा एक्स्प्रेस को नियमित करने की मांग की। वहीं खुरई के नागरिकों ने खुरई से निकलने वाली लंबी दूरी की ट्रेनों के स्टापेज की मांग उठाई। सांसद का जबाव था रेलवे की पोजीशन टाइट है फिर भी मांगे पूरी कराने का प्रयास करूंगा।

फोटो नंबर 2107 एसए 8 सागर। रेलवे स्टेशन का विस्तार किया, लेकिन नई रेल सुविधा नहीं मिली।