बीना (नईदुनिया न्यूज)। सब्जी मंडी में लहसुन और प्याज का उचित मूल्य न मिलने से किसानों में भारी आक्रोश है। शुक्रवार को किसानों ने सर्वोदय चौराहे पर सड़क पर प्याज फेंककर विरोध प्रदर्शन किया। इस दौरान किसानों ने मुख्यमंत्री के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। मंडी में लहसुन और प्याज का उचित भाव न मिलने के लिए केंद्र और राज्य सरकार को जिम्मेदार ठहराया।

किसानों के साथ विरोध प्रदर्शन करने पहुंचे पूर्व जनपद अध्यक्ष इंदर सिंह ने कहा कि भाजपा सरकार में किसानों के हितों की अनदेखी की जा रही है। किसान लक्ष्मण पटेल ने बताया कि उन्होंने 38 हजार रुपये में तीन एकड़ जमीन ठेके पर ली थी। पूरी जमीन में उन्होंने प्याज लगाई थी। फसल तैयार करने में 60 हजार रुपये खर्च हो गए। इस तरह प्याज की फसल तैयार करने में उन्हें एक लाख रुपये खर्च करने पड़े।

उन्हें उम्मीद थी कि मंडी में अच्छा भाव मिलने से मुनाफा होगा, लेकिन मंडी में एक रुपये किलो प्याज बिक रही है। इससे किसानों को लागत मूल्य भी नहीं मिल रहा है। इसी तरह ग्राम मगरधा निवासी किसान अनुराग यादव ने बताया कि उन्होंने चार एकड़ में लहसुन लगाया था। फसल तैयार करने में 1.60 लाख रुपये का खर्च आया है।

मंडी में लहसुन 15 रुपये बिक रहा था। इसके चलते किसानों को भारी घाटा हुआ है। विरोध प्रदर्शन के दौरान युवा कांग्रेसी नेता वासु यादव ने कहा कि सरकार की गलत नीतियों के कारण किसानों को उपज का उचित मूल्य नहीं मिल रहा है। यही स्थिति रही तो किसानों को लहसुन, प्याज की खेती बंद करनी पड़ेगी। उन्होंने लहसुन और प्याज भी समर्थन मूल्य पर खरीदने की मांग की है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close