सागर(नवदुनिया प्रतिनिधि)। शहर के विभिन्ना जगन्नााथ मंदिरों में प्रबंध समितियों द्वारा भगवान जगन्नााथ रथयात्रा की तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। कोरोना काल के कारण दो साल बाद निकल रही रथयात्रा को लेकर भक्तों में विशेष उत्साह है। दो साल बाद शहर में भगवान की रथयात्रा धूमधाम से निकाली जाएगी, जिसके चलते मंदिरों में सजावट का दौर भी शुरू हो गया है। शहर में एक दर्जन से ज्यादा रथ यात्राएं निकलती हैं। इसमें से सागर का वृंदावन कहे जाने वाले बड़ा बाजार क्षेत्र से ही करीब आधा दर्जन से अधिक भगवान

जगन्नााथ की रथयात्रा निकलती हैं। जिसमें मुख्य रूप से रामबाग मंदिर, बिहारी जी मंदिर, श्रीदेव राधा माधवलाल गेड़ा जी मंदिर, चकराघाट स्थित धनुषधारी मंदिर, केशवगंज वार्ड स्थित राधा-कृष्ण मंदिर, वृंदावन बाग मंदिर, साहू समाज, लक्ष्‌मीनारायण मंदिर, सत्यनारायण मंदिर सहित विभिन्ना मंदिरों से भगवान रथ में विराजमान होकर नगर भ्रमण के लिए निकलते हैं। शहर में इस बार भव्य आयोजन की तैयारी है। भगवान जगन्नााथ के रथ निर्माण के साथ ही एक जुलाई को निकलने वाली रथयात्रा की तैयारी शुरू हो गई है। श्रीदेव अटल बिहारी जी मंदिर के पुजारी अमित महाराज ने बताया कि रथ दोज की तैयारियां शुरू हो गई हैं। श्री बिहारी जी सरकार रथदोज पर नई पोशाक धारण कर शाम 5 बजे गर्भगृह से बाहर आकर नगर भ्रमण पर निकलेंगे।

मालपुआ का लगेगा भोग

मंदिर कमेटी के सदस्यों ने बताया कि दो साल से भगवान की रथयात्रा नहीं निकल पाई है, लेकिन इस बार आयोजन भव्य होगा। जगन्नााथ जी के रथ, ताल, ध्वज का निर्माण शुरू हो चुका है। यह चार रंगों हरे, काले, लाल और पीले रंग का होगा। साथ ही 21 फीट ऊंचे ध्वज भी यात्रा में शामिल होंगे। 1 क्विंटल माल पुआ के साथ ही एक क्विंटल भात का भगवान को भोग लगेगा। यात्रा के पहले जगन्नााथ के भात का वितरण होगा। यात्रा के साथ राधे-राधे संकीर्तन मंडल भी चलेगा। श्रीदेव राधा माधवलाल गेड़ा जी मंदिर के पुजारी द्वारका प्रसाद द्विवेदी ने बताया रथयात्रा के लिए मंदिर कमेटी की बैठकें हो रही हैं। इस बार रथयात्रा में भगवान का विशेष श्रृंगार किया जाएगा। वस्त्र, मोर मुकुट एवं श्रृंगार सामग्री मथुरा से मंगाई जा रही है। एक क्विंटल मालपुआ का भगवान को भोग लगेगा। शाम 5 बजे भगवान नगर भ्रमण के लिए निकलेंगे।

बड़ा बाजार में होगी भीड़

रथयात्रा के दौरान बड़ा बाजार क्षेत्र में श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है। यहां कई दुकानें लगती है और श्रद्धालु भगवान के दर्शनों के लिए पहुंचते हैं। शहर के सबसे प्राचीन रामबाग मंदिर की रथयात्रा की तैयारियां शुरु हो गई है। मंदिर के महंत घनश्याम दास महाराज ने बताया कि भगवान के रथ की साज-सज्जा का सामान आ चुका है। रथ के ऊपर विशाल ध्वज लगेगा। रथ पर एक लकड़ी का सिहासन रखा जाएगा जिस पर भगवान जगन्नााथ बड़े भाई बल्लभ एवं बहन सुभद्रा के साथ विराजमान होंगे। भक्त मंडली के मनोज सोनी ने बताया कि यात्रा में बैंड-बाजा साथ चलेगा। रास्ते में भक्तों के लिए माल पुआ के प्रसाद का वितरण होगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close