बीना (नवदुनिया न्यूज)। गलत तरीके से रेलवे लाइन पार करना अपराध है। ऐसा करने वाले व्यक्ति के खिलाफ रेलवे अधिनियम की धारा 147 के तहत केस दर्ज किया है। इसमें अधिकतम 6 माह की सजा और 1 हजार रुपये के अर्थदंड का प्रविधान हैं। बावजूद इसके रेलवे स्टेशन पर आरपीएफ के सामने रेलवे लाइन पर वेंडरों की धमाचौकड़ी मची रहती है। इसके बाद भी आरपीएफ गैर कानूनी तरीके से रेलवे लाइन क्रास करने वालों के खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रही है।

खासतौर से प्लेटफार्म पर ट्रेन आते ही दर्जनों वेंडर फुट ओवर ब्रिज का उपयोग करने के बजाए सीधे रेलवे लाइन क्रास कर एक से दूसरे प्लेटफार्म पर आते जाते हैं। रेलवे स्टेशन पर दिन में कई बार इस तरह का नजारा देखने मिलता है। कई बार प्लेटफार्म नंबर पांच पर ट्रेन आने वाले वेंडर प्लेटफार्म पर खानपान का सामान बेचते हैं। इसी दौरान यदि दूसरी ट्रेन प्लेटफार्म नंबर दो पर आने का एनाउंसमेंट हो जाता है तो वेंटर जल्द से जल्द प्लेटफार्म पर पहुंचने के चक्कर में तीन-तीन लाइन पार कर प्लेटफार्म नंबर दो पर पहुंचते हैं। वेंडरों की यह धमा चौकड़ी पूरे दिन चलती रहती है। सिर्फ यही नहीं कैंटीन, स्टाल पर खानपान का सामान पहुंचाने के लिए ब्रिज का उपयोग नहीं किया जाता। वेंडर रेलवे लाइन क्रास कर सामान लाते ले जाते दिखते हैं। हैरानी की बात तो यह है कि इस दौरान प्लेटफार्म पर आरपीएफ मौजूद रहती है, इसके बाद भी गलत तरीके से रेलवे लाइन क्रास करने वाले वेंडरों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जाती है। वेंडर यह अपराध जानबूझकर करते हैं। वहीं दूसरी ओर यदि कोई यात्री गलती से भी लाइन क्रास करते पकड़ा जाता है तो आरपीएफ कार्रवाई में किसी तरह की राहत नहीं देती।

दुर्घटनाओं का रहता है डर

रेलवे स्टेशन रोज कई ट्रेनें मैन लाइन से थ्रू निकलती हैं। रेलवे स्टेशन से निकलते समय भी इन ट्रेनों की रफ्तार 110 किलोमीटर प्रति घंटे से ज्यादा रहती है। चंद सेकंड में ही स्टेशन से ट्रेन गुजर जाती है। इस दौरान जरा सी चूक होने पर वेंटर थ्रू ट्रेन की टपेट में आ सकते हैं। इससे बड़ी दुर्घटना हो सकती है, बावजूद इसके गलत तरीके से रेलवे लाइन क्रास करने वालों के खिलाफ कार्रवाई नहीं की जा रही है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close