- कृषि विभाग के अधिकारी भी पूरे समय करते रहे निगरानी, सुबह 6 बजे से किसान लगे रहे लाइन में

बीना। नवदुनिया न्यूज

यूरिया खाद बिक्री के दौरान सरकारी गोदाम पर विवाद की स्थिति बनने पर बुधवार को पुलिस और कृषि विभाग के अधिकारियों की मौजदूगी में किसानों को खाद दिया गया। खाद लेने के लिए सुबह 6 बजे से किसान लाइन में लग गए। खाद के लिए कई किसान तो चाय पीने लाइन से निकलकर नहीं जा पाए। एक से दो बोरी खाद के लिए किसानों को छह-छह घंटे लाइन में लगना पड़ा। इस दौरान किसान परेशान होते नजर आए।

खाद लेने के लिए दो दिन से परेशान हो रहे किसानों ने आरोप लगाया कि गोदाम में खाद का पर्याप्त स्टॉक है, लेकिन स्टाफ के नाम पर सिर्फ दो कर्मचारी हैं। एक कर्मचारी किसानों का आधार गार्ड और भू-ऋण पुस्तिका देखकर खाद की पर्ची जारी करता है और दूसरी किसानों से रुपए लेता है। इसमें काफी समय लग रहा है। किसानों की भीड़ देखकर अलग दो कर्मचारियों और ड्यूटी लगा दी जाए तो यह परेशानी खत्म हो जाएगा। समय ज्यादा लगने के कारण किसान परेशान हो रहे हैं। भीड़ ज्यादा होने के कारण मंगलवार को किसानों के बीच धक्का-मुक्की हुई। विवाद की नौबत आने पर पुलिस बुलाना पड़ी थी। दोबारा इस तरह की स्थिति न बने इसके लिए बुधवार सुबह 10 बजे से पुलिस की ड्यूटी लगा दी गई थी। काउंटर पर खड़े होकर पुलिस ने नंबर से किसानों को खाद दिलवाया। इसके अलावा किसी तरह शिकवा शिकायत का समाधान करने के लिए वरिष्ठ कृषि विस्तार अधिकारी एमके नरवरिया और आरईओ एसके शर्मा पूरे समय गोदाम पर रुककर निगरानी करते रहे।

अभी 100 टन का स्टॉक

गोदाम प्रभारी मनोज साहू ने बताया कि गोदाम में अभी 100 टन का स्टॉक है। प्रति एकड़ पर एक बोरी यूरिया खाद दी जा रही है। उन्होंने बताया कि एक दो दिन में खाद का रैक आ रहा है। रैक लगते ही यूरिया खाद की पर्याप्त मात्रा में मिलने लगेगा। किसानों को जितनी खाद की जरुरत है उन्हें उपलब्ध कराया जाएगा। अभी भी खाद का संकट नहीं है।

0412 एसजीआर 159 बीना। खाद के लिए सुबह 6 बजे से इस तरह लगी रही किसानों की लाइन।

Posted By: Nai Dunia News Network