- सीहोर के क्रीसेंट वाटर पार्क चौराहे के पास हुआ सड़क हादसा

- इंदौर से सागर लौटते समय चालक को झपकी आने पर डिवाइडर से टकराई कार

- घायलों को सीहोर में भर्ती कराने के बाद कार चालक हुआ फरार

सागर। नवदुनिया न्यूज

बेटी की शादी तय कर इंदौर से सागर वापस लौटते समय एक हादसे में पिता व बेटी की मौत हो गई। घटना इतनी भयंकर थी कि डिवाइडर से टकराकर कार के परखच्चे उड़ गए। घायलों को तुरंत सीहोर अस्पताल ले जाया गया। दोनों की गंभीर हालत देखते हुए डॉक्टरों ने उन्हें भोपाल हमीदिया अस्पताल रैफर करा दिया गया। जहां इलाज के दौरान दोनों की मौत हो गई।

घटना गुरुवार की रात 12ः30 बजे की है। जब इंदौर-भोपाल हाइवे पर सीहोर के पास स्थित क्रीसेंट रिसॉर्ट चौराहे के पास चालक को नींद झपकी आने पर कार डिवाइडर से जा टकराई। कार में दिनेश श्रीवास्तव (65) व उनकी पुत्री डॉ. दिशा श्रीवास्तव(34) बैठे थे। दिनेश श्रीवास्तव की निजी कार इंडिका एमपी-15 सीए- 4542 को चालक ड्राइव कर रहा था। अचानक उसे झपकी आ गई, सामने देखा तो डिवाइडर था। ड्राइवर ने किसी तरह खुद की साइड को बचाते हुए कार डिवाइडर पर ठोक दी। तेज रफ्तार में डिवाइडर से टकराई कार का बायां हिस्सा बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया। जिसमें ड्राइवर को तो खास चोटें नहीं आईं लेकिन पिता और पुत्री बुरी तरह घायल हो गए। बाद में ड्राइवर ही पिता-पुत्री को किसी अन्य वाहन से सीहोर अस्पताल में भर्ती कराने पहुंचा और फिर वहां से फरार हो गया।

सागर के मशहूर पेंटर थे दिनेश

दिनेश श्रीवास्तव सेवानिवृत्त शिक्षक होने के साथ पेंटिंग के मशहूर कलाकार थे। बताया जाता है कि शहर में 50 फीसदी पेंटर्स को उन्होंने ही चित्रकला की कलाकारी सिखाई है। सेवानिवृत्ति के बाद वह पूरा समय पेंटर्स पर दे रहे थे। वहीं उनकी बेटी दिशा ने हाल में ही अपनी पीएचडी पूरी की थी। दिशा के विवाह को लेकर पिता दिनेश श्रीवास्तव व परिवार में काफी उत्साह व खुशी का माहौल था। वह इंदौर में अपनी बेटी का रिश्ता तय करने गए थे। जहां से लौटते समय एक सड़क दुर्घटना में बेटी व पिता की मौत हो गई।

-------

गम में बदला खुशी का माहौल

दिशा की शादी तय होने की खबर मोबाइल पर मिलने के बाद परिवार में खुशी का माहौल था। घटना की सूचना मिलते ही परिवार में मातम छा गया। दिनेश श्रीवास्तव अपने पीछे अपनी पत्नी व बेटे आकाश श्रीवास्तव को पीछे छोड़ गए। भोपाल के हमीदिया में पीएम के बाद बेटी व पिता के शव को गोपालगंज स्थित निवास पर ला गया। जहां से एक ही परिवार से दो शव यात्राएं निकली। घटना की जानकारी जिसे भी लगी वही स्तब्ध रह गया। शुक्रवार की शाम गोपालगंज स्थित शमशान घाट में दोनों चिताओं को मुखाग्नि दी गई।

फोटो- 1406एसए 22 सागर। सीहोर के क्रीसेंट चौराहे के पास क्षतिग्रस्त कार।

फोटो क्रमांक - 1406 एसए 15-सागर। डॉ. दिशा श्रीवास्तव

फोटो क्रमांक - 1406 एसए 16-सागर। दिनेश श्रीवास्तव