सागर (नवदुनिया प्रतिनिधि)।

यात्रियों की सुविधा के लिए सरकार ने मेमू ट्रेन तो शुरू कर दी है, लेकिन इससे छोटे स्टेशनों पर जाने वाले यात्री ज्यादा खुश नहीं है। यात्रियों का कहना है कि ट्रेन से पहले बहुत कम किराया लगता था, लेकिन वर्तमान में न्यूनतम किराया 30 रुपये कर दिए जाने की वजह से आर्थिक रूप से किसी तरह की राहत नहीं मिली। गनेशगंज से सागर के लिए प्रतिदिन बड़ी संख्या में लोग सफर करते हैं। इन लोगों का कहना है कि पहले गनेशगंज से सागर का किराया 10 रुपये थे, लेकिन अब तीस रुपये लग रहा है। इनता ही किराय बस का है। ऐसे में ट्रेन से यात्रियों को किसी तरह की राहत नहीं मिली। विद्यार्थी हर्षवर्धन दुबे का कहना है कि कई युवा ऐसे हैं जो प्रतिदिन सागर जाते हैं, जहां अध्यापन करने के बाद शाम को लौटकर आते हैं। पहले आने-जाने का किराया 20 रुपये लगता था, लेकिन अब 60 रुपये लगने से आर्थिक बोझ पड़ेगा। कोर्ट में नौकरी करने वाले कंछेदी चक्रवर्ती का कहना है कि न्यूनतम किराया 30 रुपये होने से छह से आठ किमी का सफर करने पर भी 30 रुपये ही किराया देना पड़ रहा है। इससे जतना परेशान हैं। सागर से मकरोनिया का किराया ही 30 रुपये हो गया है। इससे लोग बहुत परेशान हैं। पप्पू लोधी निर्भय सिंह लोधी का कहना है कि पैसेजर ट्रेनों में अधिकतर मजदूर वर्ग के लोग ही कामकाज को सागर आते-जाते हैं। इन पर तीगुना किराया करना एक रूप से आर्थिक बोझा डालने जैसा ही है। इसको कम कर पूर्व की तरह ही किराया वसूला जाना चाहिए। दमोह क्षेत्र के सांसद प्रतिनिधि एड. जगमोहन सिंह का कहना है कि किराए को पूर्व की तरह ही रखना चाहिए। इससे यात्रियों को राहत होगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags