सागर(नवदुनिया प्रतिनिधि)। रीवा-भोपाल सुपरफास्ट ट्रेन से परिवादी का सामान चोरी होने के मामले में न्यायालय जिला उपभोक्ता विवाद प्रतितोषण आयोग दमोह ने पक्षकार को 70 हजार 629 रुपये देने के आदेश दिए हैं।

अधिवक्ता संतोष कुमार सोनी ने बताया कि सागर के इतवारी वार्ड के हनुमान पायगा में रहने वाले परिवादी गौरव जैन उम्र 39 वर्ष 8 दिसंबर 2018 को रीवा-भोपाल सुपरफास्ट ट्रेन से सतना से भोपाल की यात्रा कर रहे थे। उनका रिजर्वेशन पीएनआर नंबर 821,2134904 था। परिवादी को अपने परिवार के सदस्यों के साथ एस-2 की सीट क्रं. 17,18,19 पर यात्रा कर रहे थे। परिवादी अपना बैग बर्थ में रखकर सो गया, लेकिन दमोह रेलवे स्टेशन पर आने पर सुबह करीब साढ़े 5 बजे जब उसकी नींद खुली तो सीट में रखा बैग गायब था। परिवादी ने आसपास बैग तलाशा लेकिन वह नहीं मिला। बैग के अंदर दस हजार रुपये नगद, दो लेडीज सोने की अंगूठी, एक जोड़ी सोने के टॉप्स, एक मोबाइल रखा था। घटना के बाद उसे चैकिंग स्टाफ, कोच अटेंडर को जब इसकी सूचना देना चाही तो वह मौके पर नहीं थे। परिवादी ने 182 नंबर पर फोन लगाया, जिसके बाद सागर आरपीएफ ने उससे पैसेंजर फीडबेक फार्म भरवाया और फरियादी ने भोपाल स्टेशन पर रिपोर्ट दर्ज कराई। सफर के दौरान अनाधिकृत लोगों का बोगी में आना जाना था और यहां चैकिंग स्टाफ भी नहीं था।

जब कार्रवाई नहीं हुई तो ली फोरम की शरण

पांच माह गुजर जाने के बाद भी यात्री की शिकायत पर कार्रवाई न होने पर उसने जिला उपभोक्ता फोरम विवाद प्रतिपोषित आयोग दमोह के समक्ष परिवाद प्रस्तुत किया। फोरम ने पक्षकार गौरव जैन की शिकायत पर रेल प्रबंधक जबलपुर व अन्य एक के लिए दो माह के अंदर 66,629 रुपये, सेवा में कमी मद से दो हजार एवं बाद व्यय मिलाकर कुल 70 हजार 629 रुपये देने के आदेश दिए हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local