बीना (नवदुनिया न्यूज)। कोरोना की तीसरी लहर से निबटने के लिए शासन ने रिफाइनरी के पास 1000 बिस्तर का अस्थाई कोविड अस्पताल तैयार किया है। बिजली सप्लाई के लिए शासन ने मध्यप्रदेश पूर्व क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी से चार कनेक्शन लिए हैं। अस्पताल में मरीज भले ही एक भी भर्ती न हुआ हो, लेकिन बिजली हजारों यूनिट खर्च हो रही है। पिछले तीन माह में 4 लाख 47 हजार रुपये की बिजली खर्च हो चुकी है। इसका भुगतान न होने पर बिजली कंपनी अधिकारी ने कलेक्टर को पत्र लिखा है।

दरअसल कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में ऑक्सीजन के लिए त्राहिमाम मच गई थी। इसी समय कोरोना की तीसरी लहर आने का खतरा बढ़ गया। संभावित खतरे से निबटने के लिए शासन ने रिफाइनरी के पास आनन फानन में डोम तैयार कर एक हजार विस्तर का अस्थाई कोविड अस्पातल तैयार किया था। रिफाइरी के ऑक्सीजन प्लांट से प्रत्येक पलंग तक ऑक्सीजन की पाइप लाइन डाली गई थी। इसके अलावा बिजली सप्लाई सुनिश्चित करने के लिए बिजली कंपनी से चार बिजली कनेक्शन लिए गए थे। स्टाफ की नियुक्ति कर जून के पहले सप्ताह में मुख्यमंत्री ने अस्पताल का शुभारंभ किया था। लेकिन तब तक कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण पा लिया गया। अस्पताल तैयार होने के बाद एक भी मरीज को भर्ती नहीं किया। लेकिन अस्पताल में लगे कूलर, पंखे और एसी बादस्तूर चल रहे हैं। इसके चलते हर माह लाखों रुपये बिजली बिल आ रहा है। मई से जुलाई तक 4 लाख 47 हजार 858 रुपये की बिजली खर्च हो चुकी है। लेकिन अब तक एक रुपये का बिल जमा नहीं किया गया, इसके चलते कंपनी की ओर से बिजली बिल जमा करने के लिए कलेक्टर को पत्र लिखा गया है।

लाखों रुपये देना पड़ रहा किराया

अस्थाई कोविड अस्पताल बनाने के लिए शासन ने करोड़ों रूपये खर्च किए हैं। प्राइवेट कंपनी का डोम लगाया गया, जिसका लाखों रुपये प्रतिमाह किराया देना पड़ रहा है। इसके अलावा करीब 24 कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई है, लेकिन एक दो कर्मचारी ही अस्पताल में नजर आते हैं। जबकि हर माह लाखों रुपये वेतन का भुगतान किया जा रहा है। इसके अलावा हर माह लाखों रुपये की बिजली खर्च हो रही है, जिसका जनता को कोई लाभ नहीं मिल रहा है।

कल लिखा था पत्र

कोविड अस्पताल के नाम से चार कनेक्शन दिए हैं। पिछले तीन माह से बिल का भुगतान नहीं किया गया, इसके चलते कल कलेक्टर को पत्र लिखा है। जिसमें बकाया बिजली बिल जमा कराने का आग्रह किया गया है।

मोहन सुल्या, कार्यपालन यंत्री, बिजली कंपनी, बीना

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local