Sagar News: सागर(नवदुनिया प्रतिनिधि)। बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज के सेंट्रल ऑक्सीजन सप्लाई केंद्र में ऑक्सीजन सप्लाई की नोजल में खराबी आने से बुधवार को हड़कंप मच गया। नोजल फटने यहां के विभागों में सप्लाई बाधित हुई, जिससे गंभीर मरीजों की जान पर बन आई। ऑक्सीजन न मिलने से एसएनसीयू, पीआइसीयू, एनआइसीयू में सप्लाई प्रभावित हुई, जिससे यहां भर्ती करीब 10 बच्चों को आनन-फानन में पीआइसीयू और एनआइसीयू में भर्ती करीब 10 बच्चों को जिला अस्पताल के एसएनसीयू में शिफ्ट किया गया। मामले की जानकारी लगते ही मासूम बच्चों के अभिभावक अपने बच्चों को शिफ्ट कराने में जुट गए।

जानकारी के अनुसार बीएमसी परिसर में बने ऑक्सीजन प्लांट में लगे सिलेंडर के सप्लाई केंद्र की नॉजल में से धुआं निकलने के कारण यहां सप्लाई ठप हो गई थी। ऑक्सीजन नली में न जाकर बाहर निकल रही थी, जिस कारण बीएमसी के दूसरे विभागों में ऑक्सीजन की सप्लाई प्रभावित हुई। बीएमसी में ही कोरोना के मरीजों को भर्ती किया गया है, जिनके लिए ऑक्सीजन बहुत जरूरी है। बीएमसी प्रबंधन को जैसे ही पता चला कि अचानक ऑक्सीजन की सप्लाई प्रभावित हो गई है तो यहां कई अधिकारी तुरंत पहुंच गए और बीएमसी के डीन ने इसकी जानकारी ली।

बच्चों को किया शिफ्ट

ऑक्सीजन की सप्लाई प्रभावित होने के कारण यहां भर्ती बच्चाें को तुरंत बीएमसी से जिला अस्पताल में शिफ्ट करने की कार्यवाही की गई। यह देख बच्चों के अभिभावक भी अपने मासूमों को लेकर चिंतित हो गए। बीएमसी प्रबंधन में एम्बूलेंस लगाकर बीएमसी के पीआइसीयू में भर्ती करीब 10 बच्चों को एहतियात के तौर पर जिला अस्पताल में शिफ्ट किया है। सूत्रों का कहना है कि बीएमसी में बुधवार को कोरोना व शॉरी वार्ड में तीन लोगों की मौत भी हुई है, लेकिन फिलहाल बीएमसी इसकी जानकारी देने से बच रहा है। बीएमसी के ऑक्सीजन प्लांट में खराबी आने का यह कोई पहला मामला नहीं है, बल्कि करीब तीन से चार माह पहले भी ऐसी ही घटना होने के बाद देर रात बीएमसी से बच्चों को जिला अस्पताल में शिफ्ट किया गया था।

चार लोगों की मौत की भी खबर, कारण नहीं बता रहे

सूत्रों का कहना है कि बीएमसी में बुधवार को कोरोना व शॉरी वार्ड में करीब चार लोगों की मौत भी हुई है, लेकिन फिलहाल बीएमसी इसकी जानकारी देने से बच रहा है। यह मरीज कोरोना व अन्य बीमारी से दम तोड़ने वाले भी हो सकते हैं, लेकिन इनकी मौत सुबह होना बताया जा रहा है। इसलिए बीएमसी प्रबंधन आनन-फानन में ऑक्सीजन प्लांट में आई खराबी को सुधारने में लगा हुआ है। हालांकि बीएमसी जैसी बड़ी अस्पताल में पर्याप्त सुविधाएं न होने से लोगों को असुविधा का सामना करना पड़ रहा है।

इनका कहना ...

ऑक्सीजन सिलेंडर की नोजल खराब होने के कारण सुबह से ऑक्सीजन की सप्लाई प्रभावित हुई है। इस कारण 13 बच्चों को जिला अस्पताल में शिफ्ट किया गया है। फिलहाल लोकल स्तर पर सिलेंडर की व्यवस्था करके ऑक्सीजन की सप्लाई की जा रही है। जिन लोगों की मौत हुई है वह ऑक्सीजन की वजह से नहीं हुई है। फिलहाल जल्द ही खराबी को सुधार लिया जाएगा।

- डॉ. आरएस वर्मा, डीन बीएमसी सागर

Posted By: Hemant Kumar Upadhyay

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags