बीना (नवदुनिया न्यूज)। स्वच्छता रैंकिंग सुधारने के लिए नगरपालिका की ओर से लगातार चाए जा रहे जागरूकता अभियानों का असर दिखने लगा है। शनिवार को जारी गई स्वच्छ सर्वेक्षण रैंकिंग में संभाग में नगरपालिका का दूसरा स्थान रहा। जबकि स्टेट रैंकिंग में 22 से 7वें स्थान पर आ गई है। जोनल रैंकिंग में 16वां स्थान मिला है। स्वच्छता रैंकिंग में सुधरने पर नपा अधिकारियों का सम्मान किया गया।

दरअसल स्वच्छता रैंकिंग सुधारने के लिए नपा अधिकारी लगातार एक साल से प्रयास कर रहे हैं। अभियान चलाकर शहर वासियों को स्वच्छता के प्रति जागरुक किया जा रहा है। इसमें सबसे महत्वपूर्ण पालीथिन मुक्त शहर अभियान है। नपा ने लगातार चार माह अभियान चलाकर सिंगल यूज पालीथिन के उपयोग पर काफी हद तक नियंत्रण पा लिया है। इसके अलावा लोगों को खुले में कचरा न डालने के लिए प्रेरित किया गया। अधिकांश लोग अब कचरा गाड़ियों में ही कचरा डालने लगे हैं। शहर में अलग-अलग स्थानों पर दिखने वाले कूड़े के ढरों को हटाकर गंदे स्थानों को स्वच्छ किया गया है। इसके अलावा सफाई व्यवस्था पर पूरा जोर दिया जा रहा है। इसके साथ-साथ शहर की जनता भी स्वच्छता को लेकर पहले के मुकाबले ज्यादा जागरुक हो गई है। इसका परिणाम है कि स्वच्छता रैंकिंग में व्यापक सुधार हुआ है। स्वच्छता रैंकिंग के कुल 7500 में से 5037 अंक अर्जित कर नपा ने संभाग में दूसरा स्थान पाया है। इसमें सबसे अधिक नंबर 2214 अंक सिर्फ डाक्युमेंटेशन के हैं। शिकायतों का 24 घंटे में निराकरण सहित अन्य आवेदनों का तय समय सीमा में निराकरण करने नपा के नंबरों में इजाफा हुआ है। इसके अलावा जनता के फीडबैक के 1823 नंबर मिला हैं। इसके अतिरिक्त 400 नंबर जीएफसी तथा 600 नंबर ओडीएफ डबल प्लस के शामिल हैं।

शहर वासियों को जाता है श्रेय

हमारा काम अभियान चलाकर जनता को जागरुक करना है, अमल जनता को करना है। हमारे प्रयासों को जनता ने सराहा है और शहर को स्वच्छ रखने में पूरा योगदान दिया है। इसलिए स्वच्छता रैंकिंग में संभाग में दूसरा स्थान मिला है। इसके श्रेय में शहर की जनता को देती हूं।

सुरेखा जाटव, सीएमओ, बीना

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close