बीना (नवदुनिया न्यूज)। गर्भवती एनीमिक महिलाओं को आयरन सुक्रूज का इंजेक्शन लगाने के लिए करीब छह माह से सरकारी अस्पताल में एनएस (नार्मल सेलाइन) की 100 एमएल की बोतल नहीं हैं। महिलाओं को आयरन सुक्रूज का डोज लगवाने के लिए अपने साथ एनएस की बोतल लेकर आना पड़ रहा है। बीते करीब छह माह में 400 से ज्यादा महिलाओं को अस्पताल में आयरन सुक्रूज के 1,312 डोज लगाए गए हैं। हैरानी की बात यह है कि इन महिलाओं को मेडिकल स्टोर से एनएस खरीदनी ले जानी पड़ी हैं।

दरअसल गर्भावस्था के दौरान बड़ी संख्या में महिलाओं का हीमोग्लोबिन 7 ग्राम से कम हो जाता है। एनीमिक श्रेणी में आने वाली इन महिलाओं का हीमोग्लोबिन 9-10 ग्राम के बीच लाने के लिए अस्पताल में आयरन सुक्रूज के तीन डोज लगाए जाते हैं। यह डोज पूरी तरह से निश्शुल्क हैं, लेकिन दिसंबर 2021 से अस्पताल में 100 एमएल वाली एनएस की बोतल नहीं है। इसके चलते महिलाओं को आयरन का डोज लगवाने के लिए अपने साथ एनएस की बोतल लानी पड़ रही है। अस्पताल में बोतल न मिलने के कारण कई महिलाएं बिना डोज लगवाए ही वापस चली जाती हैं, इसके बाद भी शासन स्तर पर बोतलों की सप्लाई नहीं की जा रही है। एनएस की बोतल की कमी होने के कारण पूछने पर हैरान करने वाली बात सामने आई। अस्पताल के सूत्रों ने बताया कि कोरोना काल में मरीजों को हाई एंटीबायोटिक इंजेक्शन लगाने के लिए बड़ी एनएस की छोटी बोतल की भारी खपत रही है। इसके चलते मांग के मुताबिक एनएस की छोटी बोतल सरकारी अस्पतालों में उपलब्ध नहीं हो पा रही हैं। स्टोर रूम प्रभारी की ओर से कई बार डिमांज भेजीजा चुकी है, लेकिन जिले में उपलब्ध न होने के कारण अस्पताल में भी 100 एमएल की बोतल उपलब्ध नहीं हो पा रही हैं।

इंजेक्शन भी हो गए थे खत्म

सिविल अस्पताल में एनएस की छोटी बोतलों का टोटा था ही साथ ही पिछले महीने आयरन के इंजेक्शन भी खत्म हो गए थे। इसके चलते करीब 15 दिन तक महिलाओं का आयरन के डोज नहीं लग सके। क्योंकि आयरन का मेडिकल से 200 रुपये में आता है। अधिकांश महिलाएं इतना महंगा इंजेक्शन नहीं खरीद पाती हैं इसके चलते इस महीने 25 जून से बामुश्किल 50 आयारन के डोज लगाए गए हैं। जबकि अस्पताल में हर महीने 200 से ज्यादा डोज लगाए जाते हैं।

हम कई बार कर चुके हैं मांग

पत्र लिखकर हम कई बार एनएस की छोटी बोतल की मांग कर चुके हैं, लेकिन जिला स्तर पर एनएस उपलब्ध न होने के कारण हमें नहीं मिल पा रही हैं। इसका कारण कोरोना काल में बड़ी संख्या में 100 एमएल नार्मल सेलाइन की खपत बताई है। सभी जगहों पर एनएस की कमी है।

डा. संजीव अग्रवाल, प्रभारी, सिविल अस्पताल, बीना

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close