देवरीकलां। अपर सत्र न्यायाधीश रघुवीर प्रसाद पटेल के न्यायालय ने 5 साल पुराने हत्या के मामले में तीन आरोपितों को दोषी पाए जाने पर आजीवन कारावास व एक-एक हजार रुपए के अर्थदंड की सजा सुनाई है। इस मामले की पैरवी लोक अभियोजक कपिल पांडेय ने की। श्री पांडेय ने बताया कि 26 दिसंबर 2015 में पुरानी रंजिश को लेकर सरकारी कुएं पर नहा रहे देवरी के शास्त्री वार्ड निवासी बबलू ठाकुर की सुदामा नाथ, रामजी तिवारी व हल्लन उर्फ हल्कन आदिवासी ने सीने में बल्लम मार कर हत्या कर दी थी। न्यायालय ने सुनवाई के बाद आरोप सिद्ध होने पर सुदामा नाथ को धारा 302 में आजीवन कारावास व एक हजार रुपए के अर्थदंड, रामजी व हलकन उर्फ हल्लन को धारा 302, 34 में आजीवन कारावास व एक-एक हजार रुपए के जुर्माने की सजा सुनाई।