- वर्ष 2017 में पीला मोजैक के कारण नष्ट हो गई थी किसान की फसल

सागर(नवदुनिया प्रितिनिधि)।

फसल नुकसान का क्लेम न देने पर उपभोक्ता विवाद प्रतितोषण फोरम के अध्यक्ष अनुपम श्रीवास्तव और सदस्य अनुभा वर्मा ने एचडीएफसी बैंक एवं एग्रो कंपनी के खिलाफ 55,182 रुपए देने का अवार्ड पारित किया है।

अधिवक्ता संतोष सोनी ने बताया कि वर्ष 2017 में चांदपुर तहसील निवासी चंद्रभान कोतू उम्र 53 वर्ष ने कृषि भूमि के 7 एकड़ में सोयाबीन फसल बोई थी, जिसका बीमा विपक्षी क्रं.2 मध्यांचल ग्रामीण बैंक शाखा चांदपुर रहली में 29 अगस्त 2017 को किया गया था। वर्ष 2017 में पीला मोजैक के कारण फसल नष्ट हो गई थी, जिसकी शिकायत परिवादी ने विपक्षी क्रं. 1 के टोल फ्री नंबर पर एवं अनुविभागीय अधिकारी सागर से की थी। इसके बाद फसल नुकसान का क्लेम विपक्षी पक्ष द्वारा उन्हें नहीं दिया गया। विपक्षी पक्ष क्रं. 2 मध्यांचल ग्रामीण बैंक शाखा चांदपुर रहली ने परिवादी का प्रीमियम, बीमा कंपनी को मझगुवां तहसील बंडा लिखकर जानकारी भेजी, जिसके कारण परिवादी को क्लेम प्राप्त नहीं हो सका। मझगुवां तहसील रहली में 75.8 प्रतिशत क्षति मिली थी। दुखी होकर परिवादी ने कोर्ट में परिवाद पेश किया।

दो माह के अंदर राशि देने के आदेश

मामले की विवेचना के बाद उपभोक्ता फोरम के अध्यक्ष अनुपम श्रीवास्तव व सदस्य अनुभा वर्मा ने प्रकरण में एचडीएफसी एग्रो, जनरल इंश्योरेंस कंपनी व अन्य प्रकरण में रहली की चांदपुर मध्यांचल ग्रामीण बैंक शाखा के खिलाफ 75.8 प्रतिशत क्षति मान से 55 हजार 182 रुपए दो माह में देने के आदेश दिए। विलंब करने पर 8 प्रतिशत ब्याज सहित राशि देने एवं सेवा में कमी मद से 2 हजार रुपए और वाद व्यय के रूप में 2 हजार रुपए भुगतान करने के आदेश पारित किए हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना