- बस स्टैण्ड आरटीओ कार्यालय के पास शिफ्ट करने की बनी सहमति पर निगम की अब भी तैयारियां अधूरी

- यात्री प्रतीक्षालय निर्माण की जांच कराने व गड़बड़ी मिलने पर एफआईआर के आदेश

- कढ़ान सिंचाई परियोजना में विधायक ने लगाए छेड़छाड़ के आरोप, आपत्ति जताकर बैठक छोड़कर निकले

सागर। नवदुनिया प्रतिनिधि

चुनावी मुद्दों में छाए रहने वाले शहर के ट्रांसपोर्ट नगर का अब तक निर्माण न होने, अतिक्रमण और भूमि समतल न होने के बाद अब नए स्थान पर ट्रांसपोर्ट नगर का निर्माण किया जाएगा। सरकार इस संबंध में जल्द ही नई भूमि का आवंटन किया जाएगा। यह निर्णय शुक्रवार को कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में हुई जिला योजना समिति की बैठक में लिया गया। बैठक में बस स्टैण्ड को आरटीओ कार्यालय के पास शिफ्ट करने की मौखिक सहमति से लेकर जिले के विकास के संबंध में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए।

जिले के प्रभारी मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह राठौर की अध्यक्षता में हुई बैठक में ट्रांसपोर्ट नगर के निर्माण पर चर्चा हुई। महापौर अभय दरे ने कहा कि ट्रांसपोर्ट नगर के लिए जो 14 एकड़ भूमि दी गई थी उसमें 10 एकड़ का पहाड़ है और अब 15 से 20 सालों में यहां अतिक्रमण कर लगभग 100 मकान भी बना लिए गए हैं। इसलिए यहां कोई काम नहीं हो पाया है। मंत्री श्री राठौर ने ट्रांसपोर्ट नगर के लिए जल्द ही नई भूमि दिलाने का आश्वासन दिया। वहीं शहर के बीचों बीच बस स्टैण्ड में बसों के आने से ट्रैफिक जाम जैसे हालात बनने पर महापौर ने आरटीओ कार्यालय के पास नया बस स्टैण्ड बनाने की मांग रखी, जिस पर परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत ने भी तुरंत अपनी सहमति दी। प्रभारी मंत्री ने कलेक्टर प्रीति मैथिल को उचित कार्यवाही करने के निर्देश दिए।

यात्री प्रतिक्षालयों की जांच करके कराएं एफआइआर

बैठक में बंडा जनपद अध्यक्ष देव प्रशांत सिंह ने क्षेत्र में यात्री प्रतिक्षालय निर्माण में भ्रष्टाचार के आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि मैंने अपने क्षेत्र में परफार्मेंस ग्रांट से यात्री प्रतिक्षालय के लिए राशि दी थी। पूर्व एई ने सरपंच से रिश्वत मांगी थी, लेकिन सरपंचों से रिश्वत नहीं मिली तो वह एक साल निर्माण रोके रहे। उनके ट्रांसफर के बाद उनके परीचित दूसरे एई यहां आए तो उन्होंने मूल्यांकन कराके राशि घटाकर सीसी जारी कर दी, जिसके बाद सीईओ ने भी एफआइआर के नोटिस जारी कर दिए, जबकि राहतगढ़ में इन्हीं एई ने 2 लाख 40 हजार में घटिया किस्म के प्रतीक्षालय बनाए हैं। इसलिए इस मामले की जांच कराके दोषियों पर कार्रवाई करें। प्रभारी मंत्री ने कलेक्टर से इस मामले की जांच कराके दोषी पर एफआइआर के निर्देश दिए।

नरयावली की परियोजना सुरखी ले गए तो आंदोलन करेंगे कहकर चले गए विधायक

जिला योजना समिति की बैठक में जल संसाधन विभाग की चर्चा के दौरान नरयावली विधायक प्रदीप लारिया द्वारा स्वीकृत कराई गई कढ़ान सिंचाई परियोजना में बदलाव होने के आरोप लगाकर आंदोलन की चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि मैंने नरयावली विधानसभा क्षेत्र के लोगों के लिए यह परियोजना स्वीकृत कराई थी और भूमि पूजन के समय यह तय हो चुका है कि इससे किस गांव के लोगों को पानी दिया जाएगा, लेकिन अब इस परियोजना को सुरखी में ले जाने की सूचना मिल रही है। उन्होंने कहा कि स्वीकृत सिंचाई परियोजना व लाभांवित गांव के साथ किसी भी प्रकार की छेड़छाड़ की जाती है तो वह क्षेत्र के किसानों एवं ग्रामीणों के साथ आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे। कड़ी आपत्ति जताने के बाद विधायक श्री लारिया बैठक छोड़कर भी चले गए।

कभी भी फूट सकता है चंदिया बांध, 40 करोड़ खर्च करने के बाद भी नहीं बनी पोषक नहर

बैठक में जिला पंचायत सदस्य गुलाब चंद गोलन ने कहा कि शाहगढ़ के चंदिया बांध के साथ-साथ वीला डैम की पोषक नहर के निर्माण में गंभीर अनियमित्ताएं बरती गई हैं। चंदिया बांध के लिए करीब 10 साल पहले 5 करोड़ रुपए सेफ्टी बाल निर्माण के लिए स्वीकृत हुए थे, लेकिन भोपाल के ठेकेदार ने पेटी कांट्रेक्ट में इसका काम कराया, जिससे सुरक्षा के बदले बांध को काफी नुकसान पहुंचा है जो अब कभी भी फट सकता है। वहीं वीला डैम के लिए 40 करोड़ की लागत से बाकरई नदी से पोषक नहर बनाना थी, लेकिन यह राशि खर्च हो गई है पर नहर अब तक नहीं बन पाई है। मंत्री श्री राठौर ने कलेक्टर प्रीति मैथिल को इस मामले की जांच कराके उचित कार्यवाही के निर्देश दिए।

अतिक्रमण हटाने में प्रशासन का नहीं मिल रहा सहयोग

बैठक में महापौर ने श्री दरे ने कहा कि शहर के कुछ वार्डों में अतिक्रमण के कारण जल भराव की स्थिति बनती है, लेकिन जिला प्रशासन व नजूल के अधिकारियों का सहयोग न मिलने के कारण जलभराव की स्थिति बन रही है। प्रभारी मंत्री ने निर्देश दिए कि ऐसे अतिक्रमण को शीघ्र हटाकर नालों का सीमांकन किया जाए। शहर में जलभराव की समस्या न हो सभी मिलकर ऐसे प्रयास करें। बैठक में सांसद राजबहादुर सिंह, बंडा विधायक तरवर सिंह लोधी, सागर विधायक शैलेन्द्र जैन ने भी अपने सुझाव रखे। बैठक में कलेक्टर प्रीति मैथिल नायक, पुलिस अधीक्षक अमित सांघी, नगर निगम आयुक्त आरपी अहिरवार, जिला पंचायत सीईओ चन्द्रशेखर शुक्ला आदि मौजूद थे।

............ बॉक्स खबर ............

इस बैठक में भी नहीं पहुंचे मंत्री हर्ष यादव, नेता प्रतिपक्ष और पूर्व मंत्री

जिले में 6 माह बाद हुई जिला योजना समिति की बैठक में जिले के मुख्य जनप्रतिनिधि गायब रहे। कैबिनेट मंत्री हर्ष यादव, नेता प्रतिपक्ष गोपाल भार्गव, पूर्व गृह मंत्री भूपेंद्र सिंह, बीना विधायक महेश राय बैठक में शामिल नहीं हुए जो लोगों में चर्चा का विषय बना रहा। वहीं कांग्रेस नेता व कैबिनेट मंत्री हर्ष यादव पिछली बैठक की तरह इस बार भी किसी कारणवश बैठक में शामिल नहीं हुए। बैठक में दोनों मंत्री के एक साथ मौजूद न होने से भाजपा के पूर्व मंत्रियों के एक-साथ बैठक में मौजूद न होने की बातें चर्चा का विषय बनी रही। बैठक के दौरान नरयावली विधायक प्रदीप लारिया शामिल तो हुए, लेकिन बैठक में अपनी बात रखने के बाद वह व्यस्तता का हवाला देकर बैठक से उठकर चले गए। दूसरी ओर जिला पंचायत अध्यक्ष भी दोपहर एक बजे बैठक में पहुंची, लेकिन कुछ ही देर बाद बैठक समाप्त भी हो गई। भाजपा की ओर से सांसद राजबहादुर सिंह, शहर विधायक शैलेंद्र जैन और महापौर अभय दरे ही बैठक में मौजूद थे।

खराब फसल लेकर पहुंचे विधायक, सर्वे कराके मुआबजे की मांग

अति वर्षा के चलते खरीफ फसल उड़द, सोयाबीन की फसलों की बर्बादी एवं मकान, कुआं के गिरने सहित कई समस्याओं को लेकर नरयावली विधायक प्रदीप लारिया ने प्रभारी मंत्री को ज्ञापन सौंपा। उन्होंने जल्द ही मुअबजा दिलाने की मांग की। श्री लारिया ने कहा कि घरों में पानी भरने से लोगों का आर्थिक नुकसान हुआ है और कई लोगों की फसलें भी खराब हो गई है। ग्रामीणों ने मंत्री को खराब फसलें भी दिखाई। श्री लारिया ने सड़कों की खस्ताहाल एवं उनके मरम्मतीकरण कार्य के संबंध में भी पत्र सौंपा। ज्ञापन सौंपते समय सांसद राजबहादुर सिंह, विधायक शैलेन्द्र जैन, महापौर अभय दरे, मंडल अध्यक्ष चैनसिंह ठाकुर, श्याम सुंदर मिश्रा, सुधा शर्मा भी उपस्थित थे।

-------- प्रभारी मंत्री ने यह निर्देश भी दिए ---------

- झील की सिल्ट साफ कर झील को स्वच्छ व पानी पीने योग्य बनाया जाएगा।

- पथरिया-मोतीनगर बायपास को एमपीआरडीसी शीघ्र पूरा करे।

- हितग्राहियों को प्रधानमंत्री आवास योजना की किस्तों को जल्द जारी किया जाए, ताकि लोगों को बारिश में परेशानी न हो।

- बंडा बरायठा में बांध निर्माण पर सिंचाई विभाग के अधिकारी सर्वे करें।

- केसली के आदिवासी बहुल्य ग्राम मरामाधौ का नाम परिवर्तित कर ग्रामवासियों की मांग पर राममाधव किया गया।

- स्कूल के लिए भूमि दान देने वाले शासकीय कन्या प्राथमिक शाला विठ्ठलनगर का नाम स्व. पंडित मंशाराम दुबे करने प्रस्ताव लिया गया।

- खनिज अधिकारी को पथरिया हाट स्कूल के पास हो रहे अवैध उत्खनन की जांचकर प्रतिवेदन प्रस्तुत करने के निर्देश दिए।

- अनुपस्थित अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस देने व अगली बैठक में विभाग प्रमुखों को अनिवार्य रूप से उपस्थित होने के निर्देश दिए।

- सागर स्मार्ट सिटी के कार्यों को गति दी जाएगी। अधिकारी योजनाओं का बेहतर क्रियान्वयन करें

- लाखा बंजारा झील की साफ-सफाई और सौंदर्यीकरण का कार्य किया जाएगा।

- विकास के कार्य सभी के सहयोग और सभी की भागीदारी से किए जाएंगे।

- जिले में बनने वाली 33 गौशालाओं का निर्माण कार्य जल्द पूरा करें।

- दस्तक अभियान 2 लाख 70 हजार बच्चों की स्क्रीनिंग की समीक्षा करते हुए प्रदेश में पहले स्थान पर रहने पर आवश्यक निर्देश दिए।

- स्मार्ट सिटी के कार्यों की समीक्षा करते हुए सौंदर्यीकरण के संबंध में आवश्यक निर्देश दिए।

-------------------------------------

फोटो 1309 एसए 8 सागर। कलेक्ट्रेट सभाकक्ष में योजनाओं की समीक्षा करते हुए प्रभारी मंत्री।

फोटो 1309 एसए 27 सागर। अतिवृष्टि से फसलों को हुए नुकसान के बारे में प्रभारी मंत्री को समस्या बताकर ज्ञापन सौंपते सांसद एवं विधायक।