- 1994 के बाद से निगम में पहली बार बैठाया गया है प्रशासक, परिषद का कार्यकाल 31 जनवरी को हो चुका खत्म।

- बीते साल की अपेक्षा करीब 10 प्रतिशत कम राशि का रहा प्रावधान।

सागर(नवदुनिया प्रतिनिधि)। नगर सरकार के अभाव में करीब 26 साल बाद एक बार फिर निगम का बजट प्रशासन ने पारित किया है। बीते साल 2019 में साल के आखिरी दिन अर्थात 31 दिसंबर को निर्वाचित परिषद का कार्यकाल समाप्त होने के बाद और कोरोना लॉकडाउन के चलते निगम का बजट करीब ढाई महीने देरी से पारित हो सका। सबसे खास बात यह रही कि करीब 6 अरब की अर्थव्यवस्था वाले नगर निगम में इस साल बीते साल की अपेक्षा लगभग 10 फीसद कम राशि का प्रावधान किया गया है। चूंकि निर्वाचित परिषद नहीं होने से निगम के खर्चे और नए कार्यों पर खर्च भी कम होगा, इस कारण इस तरह का प्रावधान किया गया है।

नगर निगम प्रशासन ने इस महीने शहर की इस महत्वपूर्ण संस्था का बजट तैयार कर इसे प्रशासक से पारित कराया है। चूंकि निर्वाचित परिषद, एमआईसी आस्तित्व में नहीं है, इस कारण यह संस्था पूर्ण रूप से शासन-प्रशासन और स्थानीय प्रशासन के अधीन काम कर रही है। सबसे अहम बात कि निगम में महापौर परिषद और सामान्य परिषद की शक्तियां प्रशासक के अधीन होती हैं, सारे अधिकार प्रशासक को मिल जाते हैं, इस कारण बजट पारित या स्वीकृत करने का अधिकार भी प्रशासक को ही रहता है। सागर में बतौर प्रशासक संभाग कमिश्नर को नियुक्त किया गया है। इस कारण इस साल के बजट को उन्हीं ने अनुमोदित और स्वीकृत किया है। सचिव व कार्यपालक की भूमिका में नगर निगम आयुक्त रहते हैं।

नए प्रावधान नहीं किए गए, बजट कम राशि का पारित

निगम सूत्रों से मिली जानकारी अनुसार मार्च के बाद से मई तक निगम की लेखा शाखा ने विभिन्न विभागों से मिले प्रस्ताव और नए-पुराने प्रोजेक्ट सहित अन्य कार्यों की जानकारी लेकर व आगामी एक साल में किए जाने वाले नए कार्यों के लिए प्रस्ताव मंगाए थे। इन सब पर विचार, पुनर्विचार के बाद बजट तैयार किया गया है। सबसे अहम बात यह रही कि निर्वाचित परिषद की अपेक्षा प्रशासन द्वारा तैयार किए गए बजट में बीते साल की अपेक्षा कम प्रावधान रहे और कुल बजट राशि से तकरीबन 10 फीसद कम राशि का बजट स्वीकृत किया गया है। इसमें केंद्र और राज्य सरकार के अधीन सागर में संचालित हाउसिंग प्रोजेक्ट, सीवर प्रोजेक्ट, एडीबी वाटर प्रोजेक्ट सहित नगर विकास से जुड़े मूलभूत कार्यों का प्रावधान किया गया है, जो आवश्यक होते हैं। चूंकि निर्वाचित परिषद शहर विकास के साथ-साथ राजनीतिक नजरिये को ध्यान में रखकर भी बजट में प्रावधान करती है, जो इस साल परिषद के अभाव में नहीं किए गए हैं, इस कारण बजट कम राशि का पारित हुआ है।

बजट स्वीकृत हो गया है

परिषद का कार्यकाल समाप्त होने और लॉकडाउन के कारण निगम की व्यवस्थाएं ठप रहने के कारण इस साल का बजट करीब दो महीने देरी से पारित हुआ है। बजट में शहर विकास से जुड़े प्रत्येक कार्य और उसके लिए राशि का प्रावधान किया गया है। बजट प्रशासक स्वीकृत करते हैं, उन्होंने स्वीकृति प्रदान कर दी है। बजट पत्रक को शासन के पास भेजा गया है।

- आरपी अहिरवार, आयुक्त नगर निगम सागर

-----------------------------------------

फाइल फोटो- 3006एसए 08 सागर। नगर पालिक निगम कार्यालय, सागर

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना