बीना (नवदुनिया न्यूज)। ट्रेन में सफर के दौरान एक महिला का अचानक प्रसव पीड़ा होने लगी। कंट्रोल से सूचना मिलने पर गुरुवार दोपहर 3ः44 बजे बीना स्टेशन पर ट्रेन अटेंड की गई। प्रसव पीड़ा से तड़प रही महिला को रेलवे अस्पताल के डाक्टरों ने सिविल अस्पताल रेफर कर दिया। अस्पताल जाते समय एंबुलेंस में महिला का प्रसव हो गया और शिशु की तुरंत मौत हो गई। महिला की हालत गंभीर होने पर सिविल अस्पताल से सागर रेफर किया गया है।

सहायक स्टेशन मास्टर डीके जैन ने बताया कि लाल खरात बिलासपुर निवासी जमीला बेगव पति मुहम्मद नासिर खान (24) अपने पति के साथ ट्रेन क्रमांक 18238 छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस के डी-2 कोच में बर्थ नबर 17 पर झांसी से बिलासपुर की यात्रा कर रही थीं। उनकेपेट में सात माह का गर्भ था, लेकिन यात्रा के दौरान दो माह पहले ही प्रसव पीड़ा होने लगी। ट्रेन में सफर कर रहे दूसरे यात्रियों ने इसकी सूचना टीटी स्टाफ को दी। उन्होंने ट्रेन के बीना स्टेशन से पहुंचने से पहले ही कंट्रोल रूम में महिला को प्रसव पीड़ा होने की सूचना दी। कंट्रोल रूम से मैसेज मिलने पर सहायक स्टेशन मास्टर ने रेलवे अस्पताल से डाक्टर सहित अन्य स्टाफ बुला लिया। ट्रेन दोपहर 3ः44 बजे जैसे ही प्लेटफार्म नंबर 1 पर पहुंची डाक्टरों ने महिला को अटेंड किया। महिला की गंभीर होने पर डाक्टर ने उन्हें सिविल अस्पताल रेफर कर दिया। अस्पताल पहुंचने से पहले ही एंबुलेंस में महिला का प्रसव हो गया। प्री मैच्योर डिलीवरी (समय से पहले प्रसव) होने पर शिशु की जन्म के साथ ही मौत हो गई।

पहले से कमजोर थी महिला

महिला को अटेंड करने वाले डाक्टर वीरेंद्र ठाकुर ने बताया कि गर्भावस्था के दौरान महिला के स्वास्थ्य का ध्यान नहीं रखा गया है। महिला एनीमिक होने के साथ-साथ ब्लड प्रेशर की मरीज था। महिला के हाथ-पैरों पर सूजन भी थी। जच्चा-बच्चा स्वस्थ्य न होने के कारण प्री मैच्योर डिलीवरी होने से शिशु की मौत हो गई और महिला की लागत गंभीर है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close