World Toilet Day 2019: स्वच्छ भारत मिशन के तहत स्मार्ट सिटी कंपनी महिलाओं की सुविधा के लिए शहर के सभी पब्लिक टॉयलेटों में सेनेटरी वेंडिंग मशीन लगाने जा रही है। इसके अलावा हाथ सुखाने के लिए हैंड ड्रायर भी लगाए जाएंगे। कंपनी ने पिछले दिनों सेनेटरी वेंडिंग मशीन की खरीदी कर ली है। अगले 15 दिन में शहर के सभी पब्लिक टायलेटों में इनको इंटॉल कर लिया जाएगा।

स्मार्ट सिटी कंपनी सागर देश के स्वच्छ भारत मिशन से सीधे तौर पर सागर की महिलाओं को जोड़ने के लिए नए प्रयोग करने जा रही है। महिलाओं को पीरियड्स के दौरान शहर में खरीदी या नौकरी पेशा महिलाओं को कार्यालय स्थलों के आसपास बने पब्लिक टॉयलेट में सेनेटरी पैड की सुविधा दी जाएगी। महिलाएं पांच रुपए का सिक्का डालकर पैड प्राप्त कर सकती हैं। यह मशीनें स्मार्ट सिटी कंपनी के पास आ चुकी हैं।

जल्द ही इन्हें सभी 48 पब्लिक टॉयलेट्स में इंस्टॉल कर दिया जाएगा। संभवतः अगले 15 दिन में महिलाओं को इनकी सुविधा मिलने लगेगी। सेनेटरी वेंडिंग मशीन की देखरेख का जिम्मा पब्लिक टॉयलेट के केयर टेकर के पास होगा। इनमें पैड को लोड करने का जिम्मा भी इन्हीं को अतिरिक्त रूप से सौंपा जाएगा। यदि कहीं मशीन गड़बड़ होती है और महिलाओं को इसकी सुविधा नहीं मिल सकती है तो उसके लिए फीडबैक मशीन भी लगाई जाएगी।

एक बटन दबाते ही लाल इंडीकेटर जल जाएगा

स्मार्ट सिटी कंपनी ने सारी वेंडिंग मशीनों और हैंड ड्रायर को विधिवत संचालित करने के लिए व इसकी मॉनीटरिंग के लिए तकनीकी रूप से पूरी व्यवस्था कर रखी है। सभी 48 पब्लिक टॉयलेट में फीडबैक मशीन भी इंस्टॉल की जाएगी। इसके लिए हर मशीन का एक अलग नंबर व इंडीकेटर दिया जाएगा। महिलाओं को यदि सिक्का डालने के बाद पैड उपलब्ध नहीं होता है या फिर मशीन काम नहीं करती है तो महिलाएं फीडबैक मशीन में रेड बटन दबा सकती हैं। इसके बाद सीधे तौर पर रेड सिग्नल को इंडीकेट करते हुए लाल लाइट जल जाएगी। इसका पता केयर टेकर को चल जाएगा और मशीन को दुरुस्त किया जाएगा या फिर उसमें सेनेटरी पैड भरे जाएंगे। यह व्यवस्था सभी 48 शौचालयों में दी जाएगी।

सेनेटरी वेंडिंग मशीन इंस्टॉल करा रहे हैं

स्वच्छ भारत मिशन के तहत शहर के सभी 48 पब्लिक टायलेट्स में सेनेटरी वेंडिंग मशीन व हैंड ड्रायर व फीडबैक मशीनें इंस्टॉल की जा रही हैं। महिलाओं को सीधे तौर पर पैड उपलब्ध करवाने और स्वच्छता के प्रति जागरुक करने के लिए यह व्यवस्था की जा रही हैं। इसमें सामान्य और कामकाजी सहित सभी महिलाएं जो पब्लिक टायलेट का यूज करती हैं, उन्हें फायदा मिल सकेगा।

- राहुल सिंह राजपूत, सीईओ, स्मार्ट सिटी कंपनी, सागर

Posted By: Nai Dunia News Network