सीधी। युवती के मोबाइल से गलत नंबर लगने से हुई पहचान और मेलजोल बढ़ने की कीमत प्रेमी को अपनी जान गवां कर चुकानी पड़ी। प्रेमिका ने अपने ही घर में प्रेमी की मौत के बाद शव को घर में ही गड्ढा खोदकर दफन कर दिया। मामले का खुलासा होने के बाद पुलिस ने शव को 72वें दिन गड्ढे से बाहर निकाला। सतना के रामनगर के मिरगौती निवासी इंसाफ मोहम्मद (26) पिता रब्बान मोहम्मद की मौत के मामले की जांच कुसमी पुलिस कर रही है। युवती और उसकी मां को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। घटना के संबंध में युवती ने पुलिस को बताया कि इंसाफ से पहचान के बाद वह उसे दो बार हैदराबाद ले गया था और वापस आने पर वह मेरे ही घर में रहने लगा था।

यह वाकया फरवरी 2017 से अनवरत चलता रहा। 6 दिसंबर 2019 की रात हम दोनों में विवाद हुआ तथा 7 दिसंबर को जब मेरी मां जंगल चली गई थीं और मैं लकड़ी लेने गई थी। तभी इंसाफ ने घर में फांसी लगा ली। तब मैंने रात को गड्ढा खोदकर शव को दफना दिया। युवती ने बताया कि मृतात्मा से परेशान होकर वह दो माह बाद प्रेमी के घर 15 फरवरी को सूचना देने पहुंची। कुसमी पुलिस ने 17 फरवरी को युवती के घर पहुंचकर घटना की तस्दीक की।

इसके बाद मंगलवार सुबह प्रेमिका और उसकी मां ने चादर से बंधा हुआ शव गड्ढे से बाहर निकाला। मृतक का टूटा हुआ मोबाइल फोन तथा सिम कार्ड भी युवती के घर से बरामद किया गया है। मृतक इंसाफ मोहम्मद ने आधार कार्ड में अपना नाम बदलकर राजू सिंह पिता विनय सिंह सोंटिया के नाम से फर्जी आधार कार्ड बनवाया था।

शव को पीएम के लिए भेज दिया है। प्रेमिका और उसकी मां को पुलिस अभिरक्षा में लेकर पूछताछ कर रहे हैं। पीएम रिपोर्ट आने पर आगे की कार्रवाई की जाएगी। -बीएन योगी, थाना प्रभारी कुसमी।

Posted By: Prashant Pandey