सतना। नईदुनिया प्रतिनिधि

सतना जंक्शन को आकर्षक व खूबसूरत बनाने के तहत स्टेशन परिसर में 100 फीट ऊंचे राष्ट्रीय ध्वज के सामने ऑटो पार्किंग में चबूतरा बना, विगत दिनों मुंबई से भेजे गए डीजल इंजन को रखा गया है। जिसका उद्देश्य युवा पीढ़ियों को विरासत और भारतीय रेल की विकास यात्रा को देखना और समझना है। हालांकि इंजन का रंग-रोगन का कार्य टीम द्वारा पूरा किया जा चुका है, लाइट समेत कुछ अन्य व्यवस्था आज जीएम रेल के सतना आगमन के पहले पूरी हो चुकी है।

32 वर्ष पुराना पहले बना और अंतिम बार सतना से ही गुजरा था : इस इंजन के बारे में बताते हैं कि इस सीरीज के इंजन अंतिम बार 32 साल पहले चितरंजन लोकोमोटिव वर्क्स में बनाए गए थे। जबकि इसकी शुरुआत 1967 में हुई थी। ऐसे करीब 6 सैकड़ा इंजन बनाए गए थे। लगभग 60 टन वजन वाला ये इंजन सतना से गुजरने वाली इलाहाबाद पैसेंजर ट्रेन में अंतिम बार उपयोग में लाया गया था। इस इंजन का नंबर 19659 है जो 2010 में हेरिटेज के लिए एलॉट कर दिया गया था।

फोटो सेल्फी लेने वालों मची होड़ : सतना आने के बाद से ही चबूतरे में रखा यह इंजन स्टेशन रोड से गुजरने वाले लोगों के लिए कौतूहल बना खासा आकर्षित कर रहा है। दिन भर लोग आगे पीछे से सेल्फी लेने और फोटो खिंचाने वालों की इन दिनों होड़ सी मची हुई है। जो भी व्यक्ति सतना पहुंच रहा है वह एक बार जरूर इस हेरिटेज इंजन में चढ़कर सेल्फी ले रहा है। रेलवे के इस कदम की सराहना भी जिले में हो रही है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local