सतना, नईदुनिया प्रतिनिधि। जम्मू कश्मीर में आतंकियों से लगातार सेना का आपरेशन जारी है। बुधवार को कश्मीर के शोपियां जिले में सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच एक बार फिर जोरदार मुठभेड़ हुई। इस दौरान जवानों ने दो आतंकियों को ढेर कर दिया। हालांकि, इस मुठभेड़ में भारतीय सेना के दो जवान जख्मी जो गए और एक बलिदानी हो गया। बलिदानी जवान मध्य प्रदेश के सतना के रहने वाले कर्णवीर सिंह राजपूत थे। यह जानकारी जैसे ही सतना में उनके स्वजनों और पहचानने वाले लोगों को पता चली तो लोगों में शोक की लहर दौड़ गई है।

21 राजपूत रेजिमेंट 44आरआर के जवान : देश के लिए बलिदानी हुए वीर जवान कर्णवीर सिंह के स्वजन सतना शहर के उतैली में निवास कर रहे हैं। जिन्हें यह समाचार जैसे ही मिला तो घर में मातम पसर गया। बलिदानी कर्णवीर सिंह के पिता रवि सिंह भी सेना में सूबेदार मेजर रह चुके हैं और सेना से सेवानिवृत्त हैं। उनकी माताजी मिथलेश सिंह को जैसे ही अपने लाल के बलिदानी होने की जानकारी लगी तो उनके आंखों से आंसू थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। कर्णवीर सिंह का पैतृक घर जिले के ही रामपुर बाघेलान के दलदल गांव में है। ज्ञात हो कि रामपुर बाघेलान वह तहसील है जहां के गांवों से सबसे ज्यादा युवा भारतीय सेना में हैं।

15 दिन में 15 आतंकी ढेर : ज्ञात हो कि पिछले 15 दिन में जम्मू कश्मीर में आतंकियों के खिलाफ 10 मुठभेड़ हुई हैं। इन एनकाउंटर्स में अब तक 15 आतंकी मारे गए हैं। उधर पुंछ के जंगलों में भी सुरक्षाबलों ने आतंकियों को घेर लिया है। यहां पिछले 10 दिन से एनकाउंटर जारी है। इसी एनकाउंटर के दौरान बुधवार सुबह सतना के लाल कर्णवीर सिंह बलिदानी हुए हैं।

घर पहुंचे प्रशासन के लोग : जिले के युवा सैनिक कर्णवीर सिंह के बलिदानी होने की सूचना और प्रशासन के लोग उनके बुधवार देर शाम उतैली स्थित उनके निवास पहुंचे। सीएसपी महेंद्र सिंह चौहान खुद उनके घर पहुंचे और स्वजनों को ढांढस बंधाया। इसके साथ ही प्रशानिक तैयारियों के लिए मुआयना किया। जानकारी के अनुसार कर्णवीर सिंह का पार्थिव शरीर श्रीनगर से गुरुवार को पहले इलाहाबाद हेडक्वार्टर जाएगा। इसके बाद वहां से सेना के अधिकारियों द्वारा श्रद्धांजलि पश्चात सतना आएगा। जहां सेना और पुलिस द्वारा सैनिक सम्मान के साथ उन्हें अंतिम विदाई दी जाएगी। इसके लिए जिला प्रशासन ने तैयारी शुरू कर दी है।

Posted By: Brajesh Shukla

NaiDunia Local
NaiDunia Local