सतना। नईदुनिया प्रतिनिधि

उत्तर भारत में जारी कोहरे और ठंड से सबसे ज्यादा प्रभावित रेल यातायात हो रहा है। जिसके कारण उत्तर भारत की ओर से सतना आने वाली कई ट्रेनें अपने निर्धारित समय से 1 घंटे से लेकर 10 घंटे तक देरी से चल रही हैं। इसके साथ ही कोहरा और दूसरा रेलवे में किए जा रहे इंटरलाकिंग के कार्य से यात्री लेटलतीफी का शिकार हो रहे हैं। वहीं जिले सहित आसपास के क्षेत्रों में इन दिनों रात और सुबह को घना कोहरा छा रहा है। जिसके कारण रीवा और सतना से भी गुजरने वाली ट्रेनें धीमी गति से चल रही हैं। शुक्रवार को ही सतना रेलवे स्टेशन से गुजरने वाली लगभग सास से आठ ट्रेनें कई घंटे देरी से गुजरीं जिसके कारण कई रेल यात्रियों को समस्या का सामना करना पड़ा। वहीं कोहरे से सतना सहित विंध्य में भी सुबह-सुबह वाहन चालकों को समस्या का सामना करना पड़ रहा है। हालांकि शुक्रवार को सुबह आसमान में बादल आ जाने के कारण कोहरे में कमी की संभावना है।

तीन दिन से लेट हो रही इंटरसिटी :

रीवा से सुबह 6 बजे चलकर जबलपुर जाने वाली 22190 इंटरसिटी एक्सप्रेस पिछले तीन दिनों से देरी से चल रही है। रीवा से सुबह यह ट्रेन छूटते ही इस पर कोहरे की मार पड़ जाती है जिसे कारण रीवा से सतना 49 किलोमीटर का सफर यह ट्रेन दो घंटे से अधिक समय में ले रही है। शुक्रवार को इंटरसिटी सतना में अपने निर्धारित समय 6.45 की जगह सुबह आठ बजे आई और जबलपुर पहुंचते पहुंचते यह ट्रेन बीते तीन दिनों से एक से दो घंटे की देरी में पहुंच रही है।जिसके कारण रोजाना ड्यूटी के लिए अप-डाउन करने वाले यात्रियों को सबसे ज्यादा परेशानी हो रही है।

ये ट्रेन गुजरी देरी से :

शुक्रवार को सतना से गुजरने वाली गाड़ी संख्या 19490 गोरखपुर-अहमदाबाद एक्सप्रेस 7 घंटे की विलंब से गुजरी। इसी तरह 11037 पुणे-गोरखपुर एक्सप्रेस 1 घंटे 20 मिनट विलंब से, 12428 आनंदविहार-रीवा एक्सप्रेस साढ़े चार घंटे विलंब से, 00107 देवलाली-मुजफ्फरपुर स्पेशल 3 घंटे 22 मिनट विलंब, 12185 रानी कमलापति-रीवा रेवांचल 1 घंटे विलंब, 12190 हजरत निजामुद्दीन-जबलपुर महाकोशल एक्सप्रेस 2 घंटे 45 मिनट विलंब, रीवा-जबलपुर इंटरसिटी एक घंटे विलंब से गुजरीं। जबकि अन्य कई ट्रेनें भी देरी से सतना रेलवे स्टेशन से गुजर रही हैं।

आसमान में आए बादल :

सतना के आसमान में शुक्रवार सुबह बादल आ जाने से मौसम में परिवर्तन आ गया है। स्थानीय मौसम विभाग द्वारा बताया गया कि अफगानिस्तान और उससे लगे हुए उत्तरी पाकिस्तान सहित राजस्थान के बीच एक चक्रवातीय परिसंचरण बना हुआ है। इसी तरह उत्तरी बांग्लादेश और बंगाल की खाड़ी पर भी चक्रवाती क्षेत्र बना हुआ है। इस पश्चिमी विक्षोभ का असर पूर्वी मध्य प्रदेश पर पड़ रहा है जिसके कारण आसमान में बादल छाए हुए हैं। वहीं मौसम विभाग ने एक बार फिर एक-दो दिन में बारिश की संभावना जताई है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local