क्षत्रिय महासभा के दशहरा मिलन समारोह में छत्रसाल वेब सीरीज बनाने वाली टीम का हुआ सम्मान

पन्ना (नईदुनिया प्रतिनिधि)। हमने बचपन में महाराणा प्रताप व छत्रपति शिवाजी की शौर्य गाथा को पढ़ा है। इन महान योद्घाओं की तरह बुंदेलखंड के रियल हीरो महाराजा छत्रसाल की शौर्य गाथा भी पाठ्यक्रम में शामिल होनी चाहिए, ताकि नई पीढ़ी इस अपराजेय योद्घा के पराक्रम व जीवन संघर्ष से परिचित हो सके। यह बात प्रदेश के खनिज मंत्री व पन्ना विधायक बृजेंद्र प्रताप सिंह ने क्षत्रिय महासभा जिला इकाई पन्ना द्वारा आयोजित भव्य दशहरा मिलन समारोह में कहीं। समारोह में महाराजा छत्रसाल वेब सिरी बनाने वाली टीम व क्षत्रिय समाज सहित जिले की अन्य प्रतिभाओं का सम्मान किया गया।

महाराजा छत्रसाल नेअपने जीवन में 52 लड़ाइयां लड़ीं और विजय हासिल की

समारोह के मुख्य अतिथि खनिज मंत्री बृजेंद्र प्रताप सिंह ने क्षत्रिय समाज के युवा इकाई को भव्य समारोह के आयोजन हेतु धन्यवाद ज्ञापित करते हुए कहा कि राजस्थान में महाराणा प्रताप व महाराष्ट्र में छत्रपति शिवाजी का नाम बड़े ही आदर व सम्मान से लिया जाता है। वहां का बधाा-बधाा इन महान विभूतियों से परिचित है। लेकिन महाराजा छत्रसाल जो बुंदेलखंड के रियल हीरो हैं, जिन्होंने अपने जीवन में 52 लड़ाइयां लड़ीं और विजय हासिल की। ऐसे पराक्रमी और दूरदर्शी योद्घा की शौर्य गाथा से नई पीढ़ी अनभिज्ञ है। यह देखकर दुख और कष्ट होता है। मंत्री श्री सिंह ने महाराजा छत्रसाल वेब सिरी बनाने वाली टीम के अहम सदस्य मनु भाई पटेल, रमण भाई पटेल व महेश भाई पटेल का आभार व्यक्त किया, जिन्होंने अथक मेहनत और समर्पित भाव से महाराजा छत्रसाल की जीवन गाथा को सुंदर ढंग से दुनिया के सामने प्रस्तुत किया है।

महाराजा छत्रसाल के नाम से हो खजुराहो एयरपोर्ट

क्षत्रिय महासभा जिला इकाई पन्ना के अध्यक्ष पुष्पेंद्र सिंह परमार ने अपने संक्षिप्त उदबोधन में पन्ना विधायक के रचनात्मक प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि खजुराहो एयरपोर्ट महाराजा छत्रसाल के नाम पर होना चाहिए। छत्रसाल वेब सीरीज की आपने सराहना करते हुए समूची टीम को बधाई दी, जिनके अथक प्रयासों से महाराजा छत्रसाल की जीवन गाथा को समझने व जानने का अवसर जनमानस को मिला।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local