जबलपुर/पन्ना। पन्ना टाइगर रिजर्व की मादा हाथी केनकली ने मंगलवार को एक नर हाथी को जन्म दिया है। हाथिनी का बच्चा जन्म के बाद से पीछे के पैरों में खड़ा नहीं हो पा रहा था। प्रारंभिक स्तर पर पन्ना टाइगर रिजर्व के चिकित्सक दल ने निगरानी की, लेकिन हालत में सुधार नहीं हुआ। जबलपुर से गई पांच सदस्यीय टीम ने हथिनी के बच्चे को कृत्रिम तरीके से खड़ा किया, ताकि वह दूध पी सके।

पन्ना टाइगर रिजर्व ने इस स्थिति से स्कूल आफ वाइल्ड लाइफ फारेंसिक एंड हेल्थ जबलपुर को अवगत कराया था। इसके बाद नानाजी देशमुख पशु चिकित्सा विज्ञान विश्वविद्यालय जबलपुर से पांच सदस्यीय चिकित्सकों की टीम पन्ना भेजी गई। डा. शोभा जावरे व डा. सोमेश सिंह ने निरीक्षण कर उपचार शुरू किया।

पता चला कि हथिनी के बच्चे के शरीर के पिछले हिस्से में अंदरूनी चोट के कारण वह खड़ा नहीं हो पा रहा है, जिसके कारण वह दूध भी नहीं पी पा रहा। पन्ना व जबलपुर की टीम ने हथिनी के बच्चे को खड़ा करने की कृत्रिम व्यवस्था बनाई। लोहे के फ्रेम व लकड़ी के सहारे उसे सांचे में खड़ा किया। हाथिनी के बच्चे की देखभाल के 24 घंटे के अंदर अब वह दूध पीने लगा है। अब हथिनी के बच्चे के स्वास्थ्य में सुधार आ रहा है। डाक्टरों की टीम उसका इलाज कर उसे अपने पैरों पर खड़ा करने का प्रयास कर रही है। हथिनी केनकली भी पूर्णतः स्वस्थ है। हथिनी के बच्चे का वजन लगभग 100 किग्रा है। मादा हाथी व उसके बच्चे की लगातार टाइगर रिजर्व प्रबंधन भी निगरानी कर रहा है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close