सीहोर, नवदुनिया प्रतिनिधि। पीएम पोषण शक्ति योजना के तहत प्रदेश के निश्शुल्क मूंग वितरण की शुरूआत मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने समारोह पूर्वक की, जिसके बाद पूरे प्रदेश में कक्षा 1 से 8 तक के छात्रों को मूंग का वितरण किया जा रहा है। जिले के करीब डेढ लाखों को मूंग का वितरण किया जा रहा है। काम 15 अप्रैल से शुरू किया गया है, लेकिन सरकार ने पूरे छात्रों के लिए मूंग भेजी है और पीडीएस दुकानदार भी इसमें गड़बड़ कर रहे हैं। कई छात्रों जिनको 15 किलो मूंग दी जानी थी उन्हें में 10 किलो मूंग ही दी जा रही है।

जानकारी अनुसार जिले में करीब 1500 माध्यमिक और प्राथमिक शाला है। जिनके डेढ लाख छात्रों को मूंग का वितरण किया जाना है, लेकिन शासन स्तर से सभी छात्रों के लिए मूंग आवंटित नहीं की है। शासन ने कई स्कूलों के छात्रों के लिए मूंग आवंटित नहीं की है तो वहीं कई स्कूलों के कुछ छात्रों को छोड़ दिया है। जो विवाद का कारण बन रहे हैं। जब छात्रों के अभिभावक मूंग लेने पीडीएस दुकान पहुंच रहे हैं तो दुकान संचालक बताता है कि उनके लिए मूंग आवंटित नहीं हुई। जबकि उसी स्कूल के दूसरे छात्रों को मूंग दी जा रही है। जिसके बाद दुकानदार और शिक्षकों से अभिभावकों के बीच विवाद होता है। वहीं कुछ दुकानदार छात्रों को कम मूंग दे रहे हैं। योजना अनुसार प्राथमिक स्कूल के छात्रों को 10 किलो और माध्यमिक स्कूल के छात्रों को 15 किलो मूंग दी जानी है, लेकिन शहर के ग्वालटोली स्थित स्कूल के माध्यमिक शाला के छात्रों को पीडीएस दुकानदार 10 किलो मूंग दे रहा है।

झोले में कम निकल रहा मूंग

छात्रों को मूंग वितरण के लिए झोले दिए जा रहे हैं। जिन्हें तोलने की आवश्यकता नहीं रहती। जब छात्र आता है तो उसके नाम पर आवंटित मूंग उसे दे दी जाती है। जो पैक झोले आते हैं उन्हें उठाकर दे दिया जाता है। जब हितग्राही झोलों को घर ले जाकर तोल रहे हैं तो उसमें आधा से एक किलो तक कम मूंग निकल रही है। इसके साथ ही मूंग में कचरा भी बहुत निकल रहा है। जिसकी शिकायत जब हितग्राही करते हैं तो पीडीएस संचालक कह देते हैं कि हम क्या करें यह अनाज उपर से पैक झोलों में

मेरी बेटी के लए मैं मूंग पीडीएस दुकान से लेने गई थी। मेरी बेटी सरीता कक्षा आठवीं में ग्वालटोली के शासकीय स्कूल में पढ़ती है। उसके लिए मूंग लेने में 12 नंबर कंट्रोल गई थी। जहां से 15 की जगह 10 किलो मूंग दिया गया। जब घर के पास की दुकान पर मूंग तुलवाया तो वह साढ़े नौ किलो ही निकला। साथ ही उसमें बहुत ज्यादा मिट्टी और कचरा था।

लक्ष्मी बाई पुरबिया, निवासी ग्वालटोली

मेरा बेटा करण कक्षा छह में पढ़ता है। उसके लिए में 14 नंबर कंट्रोल से मूंग लेने गया था। तो मुझे 10 किलो का झोला दे दिया है। मैंने जब पूछा की मेरे बच्चे को 15 किलो मूंग दी जानी थी। इस पर दुकानदार ने कहा कि 15 किलो सिर्फ कक्षा 8 के छात्रों को दी जा रही है। बाकि सभी को सिर्फ 10 किलो ही मूंग दी जा रही है।

विनोद राठौर, निवासी ग्वालटोली

किसी भी हितग्राही ने इस तरह की शिकायत नहीं की है, लेकिन यदि कहीं गड़बड़ी की जा रही है तो इसकी जांच कराई जाएगी।

एसके तिवारी, खाद्य एवं आपूर्ती अधिकारी, सीहोर

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close