फोटो 14 आष्टा। आर्यिका रत्न अपूर्वमति माताजी प्रवचन करते हुए। नवदुनिया

फोटो 15 आष्टा। धर्म सभा में उपस्थित श्रद्धालुगण। नवदुनिया।

आष्टा। धन्य है वह शिष्य जिन्हें गुरु चरण के समक्ष संल्लेखना मिले। हम हमेशा यही भाव भाएंगे कि हमें भी गुरुचरण अर्थात्‌ आचार्य विद्यासागर महाराज के पावन सानिध्य में संल्लेखना मिले। मुनि चिन्मय सागर महाराज जोकि जंगल वाले बाबा के नाम से जाने जाते हैं उन्हें भयंकर पीड़ा होने के पश्चात भी संल्लेखना व्रत लिए हुए हैं। मूलचंद लुहाड़िया का 29वां उपवास चल रहा है। आचार्यश्री अपने शिष्य के समक्ष दो बार जाकर संबोधन देते हैं। गुरु चरण के समक्ष संल्लेखना मिलना बहुत बड़ी बात व पुण्योदय है। यहां जीयो और जीने दो का शासन आदर्श है। सादा जीवन उच्च दो विचार का आचरण है । इस वसुंधरा पर महावीर, श्रीराम, श्रीकृष्ण, तुलसीदास, कालीदास और आचार्य कु ंदकु ंद, विद्यासागर जैसे महापुरुषों ने जन्म लिया है।

उक्त विचार दिव्योदय तीर्थ क्षेत्र श्री पर्श्वनाथ दिगंबर जैन मंदिर कि ला पर संत शिरोमणि आचार्य विद्यासागर महाराज की परम प्रभाविका शिष्या आर्यिका रत्न अपूर्वमति माताजी ने व्यक्त किए।

दिगम्बर जैन पंचायत समिति के नरेंद्र गंगवाल एवं शरद जैन ने बताया कि दिव्योदय जैन तीर्थ कि ला मंदिर पर चल रहे त्रि दिवसीय रक्षा बंधन महामंडल विधान के समापन एवं स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रीय ध्वजारोहण समाज के संरक्षकगण सूरजमल जैन, दिलीप सेठी, विधान श्रीमोड द्वारा कि या गया था। राष्ट्रीय गीतों के माध्यम से भजन गायक निर्मल जैन जैनए, मुके श जैन, आयुष जैन ने राष्ट्रीय तराने गाकर उपस्थितजन को मंत्रमुग्ध कि या। समाज के उभरते कलाकार राहुल जैन द्वारा बनाई गई झांकी विंग कमांडर अभिनंदन आकर्षण का कें द्र रही। जिसमें कमांडर अभिनन्दन को युद्ध करते बताया गया था।

बांधे रक्षासूत्र

भगवान की वेदियों एवं आपस में एक-दूसरे को रक्षा सूत्र बांधकर मनाया गया। रक्षा बंधन पर्व की ओर उपस्थित सभी लोगों ने आर्यिका रत्न अपूर्वमति माताजी के पावन सानिध्य में धर्म रक्षा का संकल्प लिया। वेदी पर रक्षा सूत्र बांधने का परम सौभाग्य पंकज कु मार मनोज कु मार सेठी, आशा जैन भोपाल, मूलचंद महेंद्र कु मार जादूगर, मंजीत श्रीमोड भोपाल, अनिल कु मार सुनील कु मार प्रगति, मनीष कु मार हेमराज जैन सुभाष नगर परिवार को प्राप्त हुआ।

आर्यिका अपूर्वमति माता जी ने कहा कि आज का दिन हमें स्वतंत्रता की भावना में आनंदित होने की प्रेरणा देता है। देश के जांबाज वीर योद्धाओं की वजह से आज हम स्वतंत्रता की श्वांस ले रहे हैं। देश के ईमानदार नागरिक होने के नाते हमें अपने कर्तव्यों का ईमानदारी पूर्वक पालन करना चाहिए। मंच संचालन सुरेंद्र जैन शिक्षक एवं मनोज पोरवाल ने कि या। आभार डॉ. जैनपाल जैन, मिश्रीलाल जैन, नीलबड़ एवं रमेश जैन आदिनाथ ने व्यक्त कि या।

0000000000000000

खेड़ापति कमल तालाब हुआ लबालब, होने लगा ओवरफ्लो

फोटो 16 आष्टा। खेड़ापति कमल तालाब पावर फ्लो इस प्रकार आया नजर। नवदुनिया

आष्टा। खेड़ापति कमल तालाब जहां अपनी तरफ नगर वासियों को आकर्षित कर रहा है, वही उसके सौन्दर्यीकरण और गहरीकरण, अतिक्रमण मुक्त होने के बाद पूरे तालाब में 13 फीट से अधिक पानी भरा चुका है।

पूर्व पार्षद और खेड़ापति कमल तालाब संरक्षण, पर्यावरण को देख रहे कालू भट्ट ने बताया कि खेड़ापति तालाब में अभी तक 13 फीट से अधिक पानी का भराव हो चुका है, जो कि नगरवासियों को अपनी तरफ आकर्षित कर रहा है। यहां सैकड़ों लोग प्रतिदिन निहारने के लिए पहुंच रहे हैं। वहीं तालाब का ओवर फ्लो पूरी तरह चालू हो चुका है, जिसकी निकासी खेड़ापति मंदिर के पीछे से पार्वती नदी में हो रही है।