इछावर (नवदुनिया न्यूज)। सोमवार को नगर सहित आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में बड़ी संख्या में काफी उत्साह के साथ 15 से 18 वर्ष के बच्चों ने टीकाकरण केंद्र पर पहुंचकर कोरोना से बचाव हेतु कोरोना का पहला टीका लगवाया। बच्चों में वैक्सीनेशन को लेकर काफी उत्साह दिखाई दिया। प्राप्त जानकारी अनुसार इछावर ब्लॉक में बच्चों के टीकाकरण हेतु 31 केंद्र बनाए गए थे जिन पर कुल 3318 बच्चों को कोरोना से बचाव हेतु को - वैक्सीन टीके की पहली डोज दी गई। इछावर बीएमओ भारत भूषण शर्मा ने बताया कि बच्चे वैक्सीनेशन को लेकर बढ़-चढ़कर भागीदारी कर रहे हैं इससे निश्चित तौर पर वैक्सीनेशन की गति में इजाफा होगा सभी केंद्रों पर अच्छी तादात में बच्चे वैक्सीनेशन के लिए आ रहे हैं। सोमवार को पहले दिन सबसे ज्यादा दिवाडिया केंद्र पर 344 बच्चों ने को वैक्सीन की पहली डोज प्राप्त की। उल्लेखनीय है कि सरकार द्वारा 3 जनवरी 2022 से 2007 या उससे पहले पैदा हुए सभी बच्चों का पूर्णा टीकाकरण का लक्ष्‌य निर्धारित किया गया है व टीका 15 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को नहीं लगाया जाएगा। ऐसे बच्चे जिनके पास मोबाइल नहीं है वह अपने माता-पिता या किसी अन्य के मोबाइल नंबर से रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं नियम के मुताबिक एक मोबाइल नंबर से अधिकतम 4 लोगों का रजिस्ट्रेशन हो सकता है। कई स्कूली बच्चों का उनके स्कूल आईडी कार्ड से भी वैक्सीन का स्लॉट बुक किया गया। जिन बच्चों को वैक्सीन की डोज दी गई उन्हें आधा घंटा तक निगरानी में रखा गया अर्थात वैक्सीन की डोज देने के पश्चात बच्चों को वैक्सीन केंद्र पर आधा घंटा का आराम दिया गया।

28 दिनों के बाद ही मिलेगी वैक्सीन कि दूसरी खुराक

टीकाकरण केंद्र पर उपस्थित स्वास्थ्य कर्मियों ने बताया कि भारत बायोटेक की को वैक्सीन बच्चों को दी जा रही है और दो खुराकओं के बीच केवल 28 दिन का अंतराल निर्धारित किया गया है हालांकि कोवैक्सीन की दूसरी डोज वयस्कों को भी 28 दिन के बाद ही दी जा रही थी।

अब मैं सुरक्षित महसूस कर रहा हूं

वैक्सीन का पहला डोज लगवा कर काफी अच्छा महसूस कर रहा हूं मैंने कोरोना की पहली व दूसरी लहर में काफी अपनों को खोया है और जब से कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोन के बारे में सुना है तब से काफी डर लग रहा था परंतु आज मै टीका लगवाकर अपने आपको काफी सुरक्षित महसूस कर रहा हूं।

-वंश प्रजापति, छात्र

टीका ही कोरोना से बचाव

सरकार का धन्यवाद देना चाहती हूं जो उन्होंने आशंकित कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए हमें सुरक्षा प्रदान करने हेतु 15 से 18 वर्ष के बच्चों को टीकाकरण की सुविधा मुहैया कराई। कोरोना से बचाव में काफी हद तक टीकाकरण ही उपाय है। इसीलिए मैंने स्वयं ही नव वर्ष के दिन टीकाकरण हेतु अपना स्लॉट बुक कर लिया था परिणाम स्वरूप आज मैंने को वैक्सीन की पहली डोज प्राप्त कर ली है अब मैं अपने आप को काफी सुरक्षित महसूस कर रही हूं।

-ऋतु वर्मा, छात्रा

पहले दादा को व अब खुद लगवाया टीका

मै मेरे घर में सबसे छोटा हूं और मैं ही अपने दादा जी से लेकर अपनी बड़ी बहन तक को वैक्सीन हेतु टीकाकरण केंद्र तक लेकर गया था परंतु मैं अब तक 17 वर्ष का होने के कारण टीका नहीं प्राप्त कर पाया था परंतु जैसे ही मैंने 15 वर्ष से 18 वर्ष के बच्चों का टीकाकरण होने की खबर सुनी तो मैं उत्साह से झूम उठा अतः मैंने स्वयं टीकाकरण हेतु अपना स्लॉट बुक किया व मैं आज अकेला टीकाकरण केंद्र पर कोरोना के टीके की पहली डोज लगवाने हेतु आया हूं। टीका लेने के बाद अपने आप को काफी सुरक्षित महसूस कर रहा हूं।

-नितेश सोलंकी, छात्र

टीका से डरने की जरूरत नहीं

आज सुबह मेरे दोस्तों ने बताया कि हमें भी टीका लग सकता है तो मैंने भी टीकाकरण हेतु अपना रजिस्ट्रेशन कराया व टीका लगवाने आया हूं कोरोना की पहली और दूसरी लहर में काफी जनहानि हुई है जिसको देखते हुए हमें भी टीकाकरण जरूरी था वैक्सीन को लेकर डर तो लग रहा है पर सभी दोस्तों ने लगवा लिया है तो मैं भी लगवा लेता हूं।

बलराम सेन, छात्र

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local