जावर (सीहोर)। ग्राम करमनखेड़ी में शनिवार रात ग्रामीणों ने गाय और नंदी का विवाह कराया। इस विवाह में शादी की सभी रस्में निभाई गईं। 11 घोड़ियों के साथ बारात भी निकाली गई। ग्रामीणों के मुताबिक, वर और वधू पक्ष की भूमिका उन लोगों ने ही निभाई। पांच दिन तक विवाह के सभी मांगलिक कार्य किए गए। बताया जाता है कि यह आयोजन गांव की सुख समृद्धि के लिए किया गया। इसमें बड़ी संख्‍या में लोग शामिल हुए। हर तरफ इस आयोजन की चर्चा हो रही है। लोग अपनी तरह से इस आयोजन की व्‍याख्‍या कर रहे हैं।

वर पक्ष की तरफ से सरपंच ने बैंड बाजों के साथ नंदी की बारात निकाली

वर पक्ष की तरफ से सरपंच ठाकुर अर्जुन सिंह ने बैंड बाजों के साथ नंदी की बारात निकाली। 11 घोड़ियों के साथ बारात विवाह स्थल पहुंची। जहां वधू पक्ष की ओर से तेजसिंह आचार्य व अन्य ने फूल बरसाकर बारात का स्वागत किया। 11 पुरोहितों ने वैदिक मंत्रोच्चारों के साथ पाणिग्रहण संस्कार संपन्न् कराया।

सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन भी किया गया

दुल्हन बनी गाय और दूल्हा बने नंदी को स्टेज पर लाया गया और सांस्कृतिक कार्यक्रम किए गए। आयोजन में सैकड़ों ग्रामीणों ने भोजन किया। सबने मिलकर यह खर्च उठाया।

गांव की सुख-समृद्धि के लिए यह अनोखा विवाह कराया

सरपंच अर्जुन सिंह ठाकुर ने बताया कि गांव की सुख-समृद्धि के लिए यह अनोखा विवाह कराया गया था। देश में कुछ स्थानों पर देवउठनी ग्यारस के अगले दिन से ऐसा आयोजन करने की परंपरा है। पहली बार हमारे गांव में भी यह आयोजन किया गया।

Posted By: Hemant Upadhyay