सीहोर (नवदुनिया प्रतिनिधि)। प्रदेश में पंचायत चुनाव में पिछड़ा वर्ग के आरक्षण को लेकर जहां पंचायत चुनाव भेंट चढ़ गए हैं तो वहीं पिछड़े वर्ग संगठन आंदोलन रत है, दूसरी ओर जिले में पिछड़ा वर्ग की स्थिति का आंकलन करने में पंचायत और राजस्व विभाग के कर्मचारी जुटे हुए हैं। इस सर्वे के बाद उनकी आर्थिक और राजनैतिक स्थिति सामने आ सकेगी। इसके चलते ग्राम पंचायतों में सर्वे किया जा रहा है। गांवो में पंचायत सचिव, रोजगार सहायक, पटवारी पिछड़ा वर्ग मतदाताओं की संख्या पता करने में लगे हुए हैं।

प्रदेश में पिछड़ा वर्ग की स्थिति क्या है, उनकी राजनीति में हिस्सेदारी कितनी है, इसको लेकर सर्वे कार्य इन दिनों चल रहा है। इस सर्वे कार्य में पंचायत सचिव और राजस्व विभाग के कर्मचारी जुटे हुए हैं। इसमें ग्राम में कुल मतदाता एवं पिछड़ा वर्ग के मतदाताओं की संख्या कितनी है। इसकी जानकारी एकत्र की जा रही है। इसके बाद पिछड़े वर्ग के मतदाताओं की जमीनी जानकारी सामने आ सकेगी।

10 दिन में होगा पूूरा

जिले की 497 ग्राम पंचायतों में पिछड़े वर्ग की स्थिति जानने के लिए सर्वे कार्य किया जा रहा है। सर्वे कार्य 10 के भीतर पूरा किए जाने के निर्देश अधिकारियों ने सर्वे कार्य कर रहे कर्मचारियों को दिए हैं। सर्वे कार्य पूरा होने के बाद पिछड़े वर्ग के कुल मतदाताओं की संख्या भी सामने आ सकेगी। इसके साथ किस तहसील में कितने मतदाता हैं इसकी स्थिति भी स्पष्ट हो सकेगी।

पंचायतों में मतदाताओं की स्थिति

जिले में 497 ग्राम पंचायतों में 1018 गांव हैं, जिनमें सीहोर ब्लाक में पुरुष 117571, महिला 109343 और कुल 226921, वहीं आष्टा ब्लाक में पुरुष 109891, महिला 100688 और कुल 210579 हैं। जबकि इछावर ब्लाक में पुरुष 55011, महिला 50434 और कुल 105446 हैं, वहीं बुधनी ब्लाक में पुरुष 43531, महिला 39748 और कुल 83280 संख्या हैं। जबकि भैरुंदा ब्लाक में पुरुष 70671, महिला 65899 और कुल 136586 संख्या है। इस सम्बंध में जिला पंचायत सीईओ हर्ष सिंह का कहना है कि पंचायतों में सर्वे कार्य जारी है। जानकारी एकत्रित कर रिपोर्ट भोपाल भेजी जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local